Samachar Nama
×

वृंदावन में इन घाटों का नहीं किए दीदार, तो कुछ नहीं किए

M
ट्रेवल न्यूज़ डेस्क !!! उत्तर प्रदेश में वाराणसी को मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। दूसरी ओर गंगा नदी के किनारे बसा बनारस अपने खूबसूरत घाटों के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। वैसे तो वाराणसी में कई घाट हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वाराणसी ही नहीं बल्कि वृंदावन के कुछ घाट भी पर्यटकों के बीच खासे मशहूर हैं। जिसका नजारा आपके सफर में चार चांद लगा सकता है।

भगवान कृष्ण ने अपना बचपन वृंदावन में यमुना नदी के तट पर बिताया। जिसके कारण वृंदावन को कृष्ण की अनगिनत लीलाओं का साक्षी माना जाता है। वहीं, वृंदावन के खूबसूरत घाट भी कृष्ण की कहानियों से अछूते नहीं हैं। ऐसे में आप अपनी वृंदावन यात्रा के दौरान कुछ प्रसिद्ध घाटों की खोज कर अपनी यात्रा को अद्भुत बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं वृंदावन के कुछ प्रसिद्ध घाटों और उनसे जुड़ी कई अनूठी विशेषताओं के बारे में।
कालिया मर्दन घाट

वृंदावन में स्थित कालिया मर्दन घाट में भगवान कृष्ण और कालिया नाग की कहानी को दर्शाया गया है। जिसके अनुसार भगवान कृष्ण ने कालिया नाग को अपने वश में कर इस घाट पर नृत्य किया था।
बिहार घाट

माना जाता है कि वृंदावन का बिहार घाट भगवान कृष्ण की कई लीलाओं का साक्षी रहा है। ऐसा माना जाता है कि कृष्ण अपने बड़े भाई बलराम और अन्य ग्वालों के साथ इस घाट पर बैठकर गायों को चराते हुए भोजन करते थे। साथ ही इस घाट के किनारे कृष्ण ने कई लीलाएं भी रची थी।
गोविंद घाट

वृंदावन का गोविंद घाट अपने महारास के लिए विश्व प्रसिद्ध है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान कृष्ण इस घाट पर प्रकट हुए थे जब गोपियों ने महारास का आयोजन किया था। जिसके बाद इस घाट को गोविंद घाट के नाम से जाना जाने लगा। आज भी इस घाट पर साल भर रास लीलाओ का आयोजन किया जाता है।

चीर घाट

वृंदावन में चीर घाट भगवान कृष्ण की चीर-चोरी के शगल का प्रतीक है। मान्यताओं के अनुसार यमुना नदी के इस घाट पर भगवान कृष्ण ने गोपियों के वस्त्र चुराए थे। कहा जाता है कि इस हरे रंग से भगवान गोपियों को संदेश देना चाहते थे कि बिना वस्त्र पहने नदी में स्नान न करें। क्योंकि मान्यता के अनुसार बिना कपड़े पहने नदी में स्नान करने से वरुण दोष होता है। वहीं, चीर घाट के किनारे भगवान कृष्ण का नृत्यगोपाल मंदिर भी स्थित है।

वंशीवट घाट

वृंदावन का वनशिव घाट रासलीला के लिए भी प्रसिद्ध है। ऐसा माना जाता है कि जब कृष्ण ने बांसुरी बजाई तो राधा रानी सहित सभी गोपियां मंत्रमुग्ध हो गईं और नृत्य करने लगीं। इस घाट पर बांसुरी के संगीत में खोई राधा रानी और सभी गोपियों ने रात भर महारास किया। इस वजह से आज भी वृंदावन आने वाले कई भक्त वंशीघाट के महारास में शामिल होना नहीं भूलते हैं।

जगन्नाथ घाट

वृंदावन के प्रसिद्ध घाटों में जगन्नाथ घाट का नाम भी शामिल है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान जगन्नाथ का रथ पुरी से यमुना नदी के तट पर निकलने के बाद पहली बार इसी घाट पर रुका था। जिसके बाद यहां भगवान जगन्नाथ का मंदिर भी स्थापित किया गया।

Share this story