Samachar Nama
×

एचआईपीसी ने कहा, Punjab और Haryana में हेरिटेज वस्तुओं को करें संरक्षित  !

एचआईपीसी ने कहा, Punjab और Haryana में हेरिटेज वस्तुओं को करें संरक्षित !
हरियाणा न्यूज डेस्क !!! चंडीगढ़ प्रशासन के हेरिटेज आइटम्स प्रोटेक्शन सेल (एचआईपीसी) के एक सदस्य ने शुक्रवार को पंजाब और हरियाणा सरकारों से करोड़ों रुपये मूल्य की हेरिटेज वस्तुएं, यानी कब्जे में पड़े फर्नीचर को संरक्षित करने का आग्रह किया। इन वस्तुओं को 1950 से 1960 के दशक में कैपिटल ऑफ पंजाब प्रोजेक्ट के तहत बनाया या तैयार किया गया था। बाद में, पूरे क्षेत्र को पुनर्गठित किया गया और इसे तीन भागों पंजाब, हरियाणा और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ (दोनों राज्यों की राजधानी के रूप में भी) में विभाजित किया गया। एचआईपीसी सदस्य अजय जग्गा ने पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों को एक पत्र लिखा जिसमें कहा गया, इस प्रक्रिया में विशाल क्षेत्र आपके कब्जे में हैं, जहां हेरिटेज वस्तुएं पड़ी हैं। चंडीगढ़ में हेरिटेज वस्तुएं का प्रशासन द्वारा ध्यान रखा जा रहा है और प्रशासन द्वारा इन वस्तुओं को संरक्षित करने के लिए सभी कदम उठाए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले फ्रांस की एक टीम भी इस संबंध में चंडीगढ़ में थी। अब दिसंबर में अमेरिका में एमएलए हॉस्टल के लिनन बॉक्स की नीलामी की जा रही है। अतीत में ऐसा कई बार हुआ है। उदाहरण के लिए, अमेरिका में पंजाब विधानसभा की कुर्सियों की नीलामी की गई और पंजाब के स्पीकर को इसकी जानकारी दी गई। ऐसे में अनुरोध है कि संविधान के अनुच्छेद 49 के तहत विरासत की वस्तुओं के संरक्षण के लिए राज्यों को दिए गए शासनादेश के अनुपालन में, दोनों राज्य इस विषय से निपटने के लिए एक समिति और नोडल अधिकारी नियुक्त करने पर विचार करें, ताकि भारी मात्रा में हेरिटेज वस्तुएं को नीलामियों के लिए विदेशों में अवैध रूप से निर्यात किए जाने से बचाया जा सकता है। सेक्टर 1, सेक्टर 9 और सेक्टर 17 (चंडीगढ़ में) में सिविल सचिवालय में और पीयूडीए (मोहाली में) जैसी इमारतों में बड़ी संख्या में हेरिटेज वस्तुएं का भंडार हैं। इसमें ड्राइंग बोर्ड, टेबल आदि जैसे आइटम शामिल हैं।

--आईएएनएस

चंडीगढ़ न्यूज डेस्क !!! 

पीके/एसकेपी

Share this story