×

Jabalpur वैक्सीन लगवाने वाले ही पहुंच पाएंगे आज से कॉलेजों में 50% छात्रों के साथ लगेगी कक्षाएं

s

मध्यप्रदेश न्यूज डेस्क।। कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए कॉलेजों में प्रवेश लेने के लिए छात्र-छात्राओं का टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है। बिना टीकाकरण के प्रवेश नहीं दिया जाएगा। रानी दुर्गावती विवि से सम्बद्ध लगभग 500 कॉलेजों में 15 सितंबर बुधवार से ऑफलाइन क्लास लगेगी। कॉलेज अभी 50% छात्र क्षमता के साथ खुल रहे हैं। सभी कॉलेजों के प्राचार्यों ने परिसर में इसका नोटिस चस्पा करा दिया है।  टीकाकरण के दौरान मिलने वाले पंजीकरण फार्म की फोटो स्टेट कॉपी लानी होगा। उधर, स्वास्थ्य विभाग भी 18 प्लस के सभी लोगों से टीका लगवाने के लिए अपील कर रहा है।

महामारी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर जिला प्रशासन अलर्ट है। कोरोना पर काबू पाने के लिए वैक्सीनेशन पर स्वास्थ्य विभाग ने पूरी ताकत झोंक दी है। सरकार ने कॉलेजों में पठन-पाठन की अनुमति दे दी है। हालांकि इसके लिए कुछ शर्तों का पालन करना होगा। इसके तहत कक्षा में पढ़ाने वाले शिक्षकों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेना अनिवार्य किया गया है, जबकि छात्रों को कम से कम एक डोज लेना जरूरी है।

जानकीरमण महाविद्यालय के प्राचार्य अभिजात किशोर त्रिपाठी के मुताबिक कॉलेज खोलने के पहले कोरोना संक्रमण गाइड लाइन की सारी तैयारियों को पूरा कर लिया गया है। गेट पर ही विद्यार्थियों को सैनिटाइज कराया जाएगा, मास्क चैकिंग के साथ वैक्सीन प्रमाण चेक किए जाएंगे। ऑफलाइन कक्षाओं के साथ-साथ ऑनलाइन कक्षाएं भी जारी रहेगी। इसके लिए कॉलेज ने ऑनलाइन और ऑफलाइन शिक्षण को पूरा करने के लिए अलग-अलग समय सारिणी तैयार की है।

18 प्लस के सभी लोगों का टीकाकरण होना है। सभी कॉलेजों के प्राचार्यों और प्रबंधकों से मदद मांगी गई है। शासन ने भी आदेश दिया है कि बगैर टीका लगवाए किसी भी छात्र के साथ शिक्षकों को विद्यालय में प्रवेश न दिया जाए।

उच्च शिक्षा विभाग की ओर से ये निर्देश जारी

कॉलेज/छात्रावास में विद्यार्थियों और स्थानीय स्टाफ को छोड़कर बाहरी लोगों का को प्रवेश नहीं मिलेगा।
विद्यार्थियों को घोषणा पत्र और माता-पिता या अभिभावकों की लिखित सहमति के आधार पर ही विद्यार्थियों को कॉलेज/छात्रावास में प्रवेश मिलेगा।
कॉलेज/छात्रावास परिसर में प्रवेश से पहले सोशल डिस्टेंसिंग सैनिटाइजेशन और सभी विद्यार्थियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।
शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ की शत-प्रतिशत उपस्थिति होगी।
विद्यार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन के पहले डोज का प्रमाण पत्र जमा करना अनिवार्य होगा। इसके बाद ही कक्षाओं में बैठने की मंजूरी मिलेगी।
कॉलेज की लाइब्रेरी भी खोली जाएगी। कुल क्षमता के 50% ही छात्र वहां मौजूद रह सकेंगे।
रादुविवि और कॉलेज छात्रावास चरणबद्ध तरीके से खुलेंगे। पहले पीजी फाइनल और यूजी फाइनल के छात्रों के लिए छात्रावास खुलेंगे।
छात्रावास की डाइनिंग हॉल, रसोई, स्नानागार, शौचालय की स्वच्छता की सतत निगरानी होगी।

Share this story