×

JAIPUR  गर्भवती लोको पायलट को क्रू लॉबी से हटाकर ट्रेन दौड़ाने भेजा...महिला आयोग में शिकायत

Take home this electric bike on EMI of around Rs 1200, will run 100 km on full charge
राजस्थान न्यूज़ डेस्क !!! रेलवे महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए जयपुर के गांधीनगर रेलवे स्टेशन को ऑल वुमन स्टेशन बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना चाहती है,  गर्भवती महिला लोको पायलट को ट्रेन चलाने की ड्यूटी लगा दी गई है। आयोग ने रेलवे के जिम्मेदार अफसरों को तलब किया है। सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि,यह विवादास्पद आदेश जयपुर मंडल के सीनियर डीएमई  ने जारी किया है। आदेश में कहा गया है कि स्टेशन पर स्थित क्रू लॉबी से महिला लोको पायलट को ट्रेनों में बुक किया जाए। रेलवे ने जिस नियम का हवाला देते हुए आदेश निकाला है, वह महिला और पुरुष कर्मियों के लिए समान है।पॉलिसी के अनुसार सेफ्टी कैटेगरी के गार्ड/पायलट को किसी भी अन्य कार्यों में नहीं लगाया जा सकता। सीपीआरओ लेफ्टिनेंट शशिकिरण का कहना है कि फिलहाल, मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। शिकायत मिली तो जांच करवाई जाएगी। जयपुर लॉबी के सुपरवाइजर/सीएलआई ने एक महिला असिस्टेंट लोको पायलट को गर्भवती होने की वजह से लॉबी में लगाया था लेकिन वहां कुछ विवाद हुआ तो सीनियर डीएमई ने महिला कर्मियों से लॉबी में कार्य नहीं करवाने के आदेश निकलवा दिए। खबरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि, रेल अफसरों की कार्यशैली एक बार फिर विवादों में है। मुझे द्वेष भावना से हटाया जा रहा है, तो नियमानुसार फिर कोई भी लोको पायलट लॉबी में ड्यूटी नहीं कर सकता। लॉबी में ड्यूटी पर भी कर्मचारियों को उच्च अधिकारियों द्वारा निजी हित पूरा करने के लिए लगाया जाता है। ऐसे में अब बड़ा सवाल खड़ा होता है कि आखिर मानवीयता के आधार पर भी अनदेखी क्यों हो रही है?

Share this story