Samachar Nama
×

विशेषज्ञ पैनल ने freedom movement में भूमिका को रेखांकित करने वाली आईएएनएस की डॉक्यूमेंट्री द लास्ट पुश पर चर्चा की !

विशेषज्ञ पैनल ने freedom movement में भूमिका को रेखांकित करने वाली आईएएनएस की डॉक्यूमेंट्री द लास्ट पुश पर चर्चा की !
दिल्ली न्यूज डेस्क् !! भारत के प्रमुख स्वतंत्र न्यूजवायर आईएएनएस ने बुधवार को केंद्रीय भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्री महेंद्र नाथ पांडे की उपस्थिति में 1946 के रॉयल इंडियन नेवी विद्रोह पर द लास्ट पुश नामक एक वृत्तचित्र (डॉक्यूमेंट्री) जारी किया। ब्रिटेन में इम्पीरियल वॉर म्यूजियम और कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से प्राप्त भूले हुए फुटेज और भारत और पाकिस्तान से प्रेस क्लिपिंग का उपयोग करके और इस सामग्री को वीरता की इस कहानी के विशेषज्ञ कथनों के साथ जोड़कर, द लास्ट पुश विद्रोह के 72 घंटों का पुनर्निर्माण करता है, जो नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज (भारतीय राष्ट्रीय सेना) की बहादुरी से प्रेरित था और ब्रिटिश राज के अंत को तेज कर दिया। यह डॉक्यूमेंट्री 1946 : रॉयल इंडियन नेवी म्यूटिनी- लास्ट वॉर ऑफ इंडिपेंडेंस पर आधारित है।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ने आईएएनएस के प्रयासों की सराहना की और कहा, 1946 के नौसैनिक विद्रोह के लिए द लास्ट पुश शब्द बहुत सही विकल्प है, क्योंकि किसी भी लड़ाई में आखिरी धक्का बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।  केंद्रीय मंत्री ने कहा, इस फिल्म को बनाकर आईएएनएस ने सराहनीय काम किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने कम ज्ञात स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए योगदान को उजागर करने के लिए जबरदस्त प्रयास किए हैं। इस दिशा में आईएएनएस द्वारा किए गए प्रयास अमृत काल के दौरान विशेष महत्व रखते हैं। आईएएनएस के प्रधान संपादक संदीप बामजई ने कहा, हमें 1857 के सिपाही विद्रोह की बड़ी चौड़ाई और गहराई मिली है, लेकिन नौसैनिक विद्रोह वास्तव में आखिरी धक्का था, क्योंकि यह आजादी से तुरंत पहले हुआ था, जो इसके 18 महीने बाद हमारे सामने आया था। उन्होंने कहा कि आईएएनएस फ्रीडम सीरीज के तहत इस तरह के विद्रोहों और विद्रोहों को उजागर करना चाहता है जो आजादी से पहले हुए थे। फिल्म के प्रीमियर के बाद, वृत्तचित्र निर्माता सुजय ने एक पैनल चर्चा की अध्यक्षता की, जिसमें पुस्तक के लेखक प्रमोद कपूर और प्रोफेसर सलिल मिश्रा, स्कूल ऑफ लिबरल स्टडीज, अम्बेडकर विश्वविद्यालय ने भाग लिया।

उन्होंने कहा, विद्रोह आखिरी कील था, क्योंकि अंग्रेजों को देश छोड़ने का फैसला करना पड़ा, क्योंकि उन्हें लगा कि बिना सेना के वे भारत को लंबे समय तक नहीं रख सकते।  चर्चा में कपूर ने कहा, नस्लीय भेदभाव था। बेस्वाद खाना था, रहन-सहन इतना खराब था कि सब उनमें गुस्सा पैदा कर रहे थे कि वे उनके लिए लड़े और फिर भी उनके साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आईएनए और उन्हीं लोगों से बेहद प्रभावित होने के कारण जिनके खिलाफ उन लोगों ने विद्रोह किया और सिंगापुर जैसे सुदूर पूर्व में हासिल किया, इस सबने उन्हें स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान देने के लिए कुछ करने के लिए प्रेरित किया जिसने इस विद्रोह को बढ़ाया।

प्रो मिश्रा ने कहा, आरआईएन विद्रोह अंग्रेजों के लिए महान अनुस्मारक था कि एक बार राजद्रोह, विद्रोह, विद्रोह और राष्ट्रवाद के विचार सेना, नौसेना, पुलिस या नौकरशाही जैसी सेवाओं तक पहुंच गए, तो अंग्रेजों के लिए भारत में रहने का कोई रास्ता नहीं होगा।  उन्होंने कहा कि इसके लिए कम्युनिस्टों का भी भरपूर समर्थन था। वे लोगों को लामबंद करते हैं और उस लामबंदी ने निश्चित रूप से इसमें एक भूमिका निभाई है। भारतीय कम्युनिस्ट के लिए युद्ध की समाप्ति, मित्र देशों की सेना की जीत और यूएसएसआर की जीत जैसे मनोवैज्ञानिक क्षण थे। प्रो. मिश्रा ने कहा कि इन सभी ने उनके लिए कथा निर्धारित की कि फासीवाद की ताकतों को समाजवाद से पराजित होना चाहिए।

--आईएएनएस

एसजीके

Share this story