Samachar Nama
×

सीईसी, ईसी की नियुक्ति पर SC ने कहा- संविधान की चुप्पी का सभी फायदा उठा रहे हैं !

सीईसी, ईसी की नियुक्ति पर SC ने कहा- संविधान की चुप्पी का सभी फायदा उठा रहे हैं !
दिल्ली न्यूज डेस्क !!! सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को चुनाव आयुक्तों (ईसी) और मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) की नियुक्तियों को नियंत्रित करने वाले कानून की गैर-मौजूदगी को परेशान करने वाली प्रवृत्ति करार दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि संविधान की चुप्पी का सभी द्वारा शोषण किया जा रहा है। न्यायमूर्ति के.एम.जोसेफ की अध्यक्षता वाली पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने बताया कि 2004 के बाद से किसी भी मुख्य चुनाव आयुक्त ने छह साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया है। पीठ ने कहा कि यूपीए सरकार के दौरान छह सीईसी थे और 2015-2022 के बीच एनडीए सरकार के आठ वर्षों में आठ सीईसी हुए हैं। बेंच- जिसमें जस्टिस अजय रस्तोगी, अनिरुद्ध बोस, हृषिकेश रॉय और सी.टी. रविकुमार- ने कहा कि भले ही सीईसी एक संस्था का प्रमुख है, अपने छोटे कार्यकाल के साथ, वह कुछ भी ठोस नहीं कर सकता है और कहा कि यह एक परेशान करने वाली प्रवृत्ति है। उन्होंने कहा- संविधान में कोई नियंत्रण और संतुलन नहीं है। इस तरह संविधान की चुप्पी का सभी द्वारा शोषण किया जा रहा है.. कोई कानून नहीं है और कानूनी रूप से वह सही हैं। कानून के अभाव में कुछ भी नहीं किया जा सकता है।

पीठ ने संविधान के अनुच्छेद 324 का हवाला दिया, जो चुनाव आयुक्तों की नियुक्ति की बात करता है। पीठ ने कहा कि अनुच्छेद ऐसी नियुक्तियों के लिए प्रक्रिया प्रदान नहीं करता है, हालांकि इसमें संसद द्वारा एक कानून बनाने की परिकल्पना की गई थी, यह पिछले 72 वर्षों में नहीं किया गया है, जिसके कारण केंद्र सरकार द्वारा शोषण किया गया है। पीठ ने केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमणी से कहा कि कानून के अनुसार, सीईसी का कार्यकाल छह साल या 65 वर्ष की आयु तक निर्धारित होता है, इनमें जो पहले हो जाए, वही कार्यकाल माना जाता है। मुख्य चुनाव आयुक्त ज्यादातर ब्यूरोक्रेट होते हैं और सरकार ऐसे ब्यूरोक्रेट की उम्र पहले से जानती है जिन्हें मुख्य चुनाव आयुक्त बनाया जाता है। उन्हें तभी मुख्य चुनाव आयुक्त के तौर पर नियुक्त किया जाता है फिर भी वह कभी भी छह साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाते हैं और उनका कार्यकाल खंडित ही रहता है।

पीठ ने एजी से कहा कि सीईसी को उनकी पूरी शर्तें नहीं मिल रही हैं और पूछा, वह अपने कार्यों को कैसे पूरा करेंगे? वेंकटरमणि ने जवाब दिया कि वर्तमान प्रक्रिया, जहां राष्ट्रपति सीईसी और ईसी की नियुक्ति करते हैं, को असंवैधानिक नहीं कहा जा सकता है और अदालत इसे रद्द नहीं कर सकती है। सीईसी और ईसी के संक्षिप्त कार्यकाल का हवाला देते हुए, पीठ ने कहा कि इसका इस या उस राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है, लेकिन यह व्यक्ति के मौलिक अधिकार तक सीमित है। पीठ ने वेंकटरमणि से कहा कि अगर सरकार के पास ईसी और सीईसी की नियुक्ति के लिए कोई तरीका है तो वह उसे बुधवार तक सूचित करें। शीर्ष अदालत सीईसी की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम जैसी व्यवस्था की मांग वाली याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है और इस मामले में सुनवाई बुधवार को भी जारी रहेगी। पिछले हफ्ते, केंद्र सरकार ने सीईसी और ईसी के चयन के लिए कॉलेजियम जैसी प्रणाली की मांग करने वाली याचिकाओं का विरोध किया। शीर्ष अदालत ने अक्टूबर 2018 में, सीईसी और ईसी के चयन के लिए कॉलेजियम जैसी प्रणाली की मांग करने वाली एक जनहित याचिका को पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ के पास भेज दिया था।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम

Share this story