×

BIKANER  चार मरीज फिर भर्ती, राहत-नए रोगी नहीं मिलेतीन मरीजों का एमसीएच और एक का कैंसर अस्पताल में चल रहा उपचार

Take home this electric bike on EMI of around Rs 1200, will run 100 km on full charge

राजस्थान न्यूज़ डेस्क !!! संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल में चार मरीजों की वापसी हुई है। संबंधित मरीजों को उपचार के बाद घर भेज दिया था। 27 मरीजों की उपचार के दौरान मौत हो गई। ईएनटी के प्रोफेसर डॉ. गौरव गुप्ता के अनुसार ब्लैक फंगस के नए मरीज रिपोर्ट नहीं हो रहे हैं। खबरों से प्राप्त जानकर के अनुसार बताया जा रहा है कि,कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में भले ही कमी आई हो, ब्लैक फंगस ने अभी भी मरीजों का पीछा नहीं छोड़ा है। जिनका उपचार चल रहा है वे दोबारा लौटे हैं।उन्होंने बताया कि एमसीएच में तीन तथा कैंसर अस्पताल में एक ब्लैक फंगस मरीज का उपचार चल रहा है। गुप्ता के अनुसार जिन मरीजों की प्रतिरोधी क्षमता कमजोर थी, वे कोरोना के साथ-साथ ब्लैक फंगस की चपेट में भी आ गए थे।

फंगल इन्फेक्शन के बाद साठ वर्षीय किशन लाल के शरीर की चमड़ी उतरनी शुरू हो गई है। सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि, नाल बड़ी निवासी किशन लाल मेघवाल की तबीयत ठीक होने का नाम नहीं ले रही है। स्थिति इतनी खराब हो चुकी है कि मरीज का ऑपरेशन करना भी संभव नहीं हो रहा है।मरीज के पुत्र बालूराम ने सीएमएचओ को पत्र लिखकर आरोप लगाया कि उनके पिता के कोरोना टीका लगाने के बाद तबीयत बिगड़ी थी।

कोरोना टीका लगने के बाद सेहत बिगड़ी हो, ऐसी रिपोर्ट नहीं है। कोरोना टीका लगने के बाद अगर किसी को इन्फेक्शन होता है तो आधे घंटे में ही लक्षण सामने आने लगते हैं। किशन लाल का उपचार करने वाले जनरल सर्जरी के सीनियर डॉक्टर दीवान जाखड़ ने बताया कि संबंधित मरीज की ब्लैक फंगस रिपोर्ट पॉजिटिव थी।बीकानेर में टीका लगाने के बाद किसी मरीज की तबीयत बिगड़ी हो ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है।

Share this story