×

BUXSAR एमडीए अभियान में शहरी आंगनबाड़ी केंद्रों की सेविकाओं की भूमिका अहम

GANGANAGAR

बिहार न्यूज़ डेस्क !!! प्रखंडस्तर से लेकर जिलास्तर पर प्रशिक्षण आदि का काम चल रहा है। इसी क्रम में बीते दिन सदर प्रखंड में शहरी क्षेत्र में स्थित आंगनबाड़ी केंद्रों की सेविकाओं को भी प्रशिक्षित किया गया।खबरों से प्राप्त जानकर के अनुसार बताया जा रहा है कि,जिसमें उन्हें अभियान की बारीकियों व दवाओं के खिलाने के संबंध में पूरी जानकारी दी गई।आपकी जानकारी के लिए बता दे की,जिले में 20 सितंबर से शुरू होने वाले फाइलेरिया उन्मूलन अभियान की तैयारियां जोरों पर है। मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन  अभियान के तहत लाभुकों को डीईसी व अल्बेंडाजोल की गोली खिलाने के साथ साथ फाइलेरिया से बचाव के लिए लोगों को दी जाने वाली जानकारी से अवगत कराया गया।अलग-अलग उम्र के लोगों को दवा खिलाने के नियमों की जानकारी दी गई।

06 से 14 वर्ष के बच्चों को डीईसी के दो व एलबेंडाजोल की एक गोली खिलाई जाएगी। दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को दवा नहीं खिलाई जाती है। बीसीएम प्रिंस कुमार सिंह ने सेविकाओं को बताया, लाभुकों को दवा खिलाने में काफी सावधानी बरतनी है। अभियान के दौरान लोगों को अपने सामने ही डीईसी व अल्बेंडाजोल की गोली खिलाई जाएगी। उम्र के हिसाब से उनको दवा अपने समक्ष खिलानी है।केयर इंडिया के बीएम आलोक कुमार और सदर प्रखंड के बीसीएम प्रिंस कुमार मौजूद थे। बताया गया कि 02 वर्ष से 05 वर्ष तक के बच्चों को डीईसी व एलबेंडाजोल की एक-एक गोली खिलाई जाएगी।दो से पांच वर्ष के बच्चों को डीईसी और अल्बेंडाजोल की एक गोली, छह से 14 वर्ष तक के बच्चों को डीईसी की दो और अल्बेंडाजोल की एक गोली और 15 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को डीईसी की तीन और अल्बेंडाजोल की एक गोली खिलाई जाएगी।अल्बेंडाजोल की गोली लोगों को चबाकर खाना है। दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं व गंभीर रूप से बीमार लोगों को भी दवा नहीं खिलाई जाएगी।

Share this story