Samachar Nama
×

शिव के इस धाम में रोजाना दस मिनट के लिए महिलाओं को दर्शन करना है मना, जानिए रोचक कारण

Ujjain mahakaal mandir unique ritual of aarti where women are not allowed darshan pujan

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: हिंदू धर्म में भगवान की पूजा अर्चना को जितना अहम माना जाता है उतना ही उनके धार्मिक स्थलों को भी पवित्र बताया गया है मान्यता है कि धार्मिक स्थलों पर भगवान के दर्शन और पूजन करने ईश्वर की विशेष कृपा मिलती है और मुरादें भी पूरी होती है मध्य प्रदेश की धार्मिक राजधानी उज्जैन का प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर कई कारणों से प्रसिद्ध माना जाता है

Ujjain mahakaal mandir unique ritual of aarti where women are not allowed darshan pujan

अभी कुछ दिनों पहले यहां भव्य महाकाल लोक कॉरिडोर का उद्घाटन किया गया था इस स्थान को बेहद ही पवित्र और पूजनीय माना जाता है वही आपने ऐसा सुना या देखा होगा। कि कई मंदिरों में महिलाओं को प्रवेश नहीं दिया जाता है लेकिन महाकाल मंदिर में ऐसा नहीं है यहां महिलाएं आराम से भगवान के दर्शन पूजन के लिए मंदिर में प्रवेश कर सकती है लेकिन यहां पर केवल 10 मिनट के लिए महिलाओं को बाबा के दर्शन करने की अनुमति नहीं है इसके पीछे बेहद रोचक कारण भी है तो आज हम आपको अपने इस लेख द्वारा इसी के बारे में बता रहे हैं तो आइए जानते हैं। 

Ujjain mahakaal mandir unique ritual of aarti where women are not allowed darshan pujan

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस पवित्र स्थली पर भगवान महाकाल शिव रूप से शंकर रूप में प्रवेश करते हैं यानी कि निराकार से साकार रूप में आते हैं इस दौरान भगवान को भस्म लगाई जाती है भगवान के अभ्यंग स्नान का दर्शन महिलाएं नहीं करती है जिस तरह से वस्त्र बदले जाते हैं ठीक उसी तरह से भगवन महाकाल निराकार रूप से साकार रूप में आते हैं इस दौरान कुछ मिनटों के लिए महिलाओं को यहां दर्शन करने की मनाही होती है

Ujjain mahakaal mandir unique ritual of aarti where women are not allowed darshan pujan

यह कार्य रोजाना दस मिनट के लिए होता है इसके बाद महिलाएं भगवान के दर्शन व पूजन कर सकती है। ऐसा माना जाता है कि महाकाल की भस्म आरती के लिए पीपल, अमलतास, पलाश, बड़ , शमी और बेर के पेड़ की लकड़ियों और उपलों को एक साथ जलाया जाता है इस समय मंत्रोच्चारण भी किया जाता है फिर इसे एक वस्त्र से छाना जाता है और उससे बाबा का श्रृंगार किया जाता है ऐसा करने से बाबा प्रसन्न होकर कृपा बरसाते हैं और कष्टों का निवारण करते हैं। 

Ujjain mahakaal mandir unique ritual of aarti where women are not allowed darshan pujan

Share this story