Samachar Nama
×

क्‍या हैं एस्‍टरॉयड? अंतरिक्ष में घूमती 11 लाख से ज्‍यादा चट्टानों के बारे में जानिए सबकुछ

'

विज्ञान न्यूज़ डेस्क-पिछले कुछ दिनों में पृथ्वी को जिन चीजों से सबसे ज्यादा जूझना पड़ा है उनमें से एक है क्षुद्रग्रह। 29 और 30 जुलाई को दो गगनचुंबी आकार के क्षुद्रग्रह पृथ्वी के करीब से गुजरे। गुरुवार को एक और क्षुद्रग्रह पृथ्वी के करीब से गुजरा। इसमें एक हजार परमाणु बमों की शक्ति थी। जब भी कोई क्षुद्रग्रह पृथ्वी के करीब से गुजरता है, तो दुनिया भर की अंतरिक्ष एजेंसियां ​​उसकी निगरानी करती हैं, क्योंकि अंतरिक्ष में तैरती ये चट्टानें पृथ्वी को नुकसान पहुंचा सकती हैं, पृथ्वी पर क्षुद्रग्रह के प्रभाव ने भी सभी डायनासोरों का सफाया कर दिया। आज इस कहानी में हम क्षुद्रग्रहों को भी समझने की कोशिश करेंगे।नासा के अनुसार इन्हें लघु ग्रह भी कहा जाता है। क्षुद्रग्रह लगभग 4.6 अरब साल पहले हमारे सौर मंडल के प्रारंभिक गठन से बचे हुए चट्टानी अवशेष हैं। वैज्ञानिकों ने अब तक 11 लाख 13 हजार 527 क्षुद्रग्रहों की खोज की है।


 
अधिकांश क्षुद्रग्रह मुख्य क्षुद्रग्रह बेल्ट में पाए जाते हैं, जो मंगल और बृहस्पति के बीच है। इनका आकार 10 मीटर से लेकर 530 किलोमीटर तक हो सकता है। अब तक खोजे गए सभी क्षुद्रग्रहों का कुल द्रव्यमान पृथ्वी के चंद्रमा से कम है।अधिकांश क्षुद्रग्रह आकार में अनियमित होते हैं। कुछ लगभग गोल होते हैं, जबकि कई अंडाकार दिखाई देते हैं। कुछ ऐसे क्षुद्रग्रह हैं जिनके अपने चंद्रमा हैं। कई के दो चाँद भी होते हैं। वैज्ञानिकों ने डबल और ट्रिपल एस्टरॉयड सिस्टम की भी खोज की है जिसमें ये चट्टानें एक-दूसरे की परिक्रमा करती हैं।क्षुद्रग्रहों को तीन वर्गों में बांटा गया है - सी, एस और एम प्रकार। सी-टाइप (चोंड्राइट) क्षुद्रग्रह सबसे आम हैं। वे संभवतः मिट्टी और सिलिकेट चट्टानों से बने होते हैं और दिखने में गहरे रंग के होते हैं। वे सौर मंडल की सबसे पुरानी वस्तुओं में से हैं। एस-प्रकार के क्षुद्रग्रह सिलिकेट सामग्री और निकल-लौह से बने होते हैं। जबकि M प्रकार के क्षुद्रग्रह धात्विक (निकल-लौह) होते हैं। उनकी रचना सूर्य से दूरी पर निर्भर करती है।
 

Share this story