Samachar Nama
×

इंसानों से कई गुना ज्यादा है चींटियों की आबादी, ये बातें जानकर उड़ जाएंगे होश

;

विज्ञान न्यूज़ डेस्क-अगर आप अपने किचन में चीटियां देखते हैं, तो आप इनसे छुटकारा पाने का उपाय ढूंढ रहे होंगे, लेकिन वैज्ञानिकों ने इन चींटियों के बारे में कहा है कि अगर चींटियों को धरती से खत्म कर दिया जाए, तो जीवन खत्म होने में देर नहीं लगेगी। आज वैज्ञानिकों की बात सुनकर विश्व प्रसिद्ध जीवविज्ञानी एडवर्ड ओ विल्सन के शब्द याद आ जाते हैं कि वास्तव में इस पृथ्वी को छोटे-छोटे जीव ही चलाते हैं और उनकी बातें बिल्कुल सच हैं। विल्सन के इस कथन की पुष्टि के लिए चींटियाँ ही काफी हैं।हम सभी जानते हैं कि चींटियां खाद्य श्रृंखला में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इसके साथ ही ये मिट्टी में हवा के स्तर को बनाए रखते हैं। चींटियाँ जटिल कार्बनिक पदार्थों को सरल कार्बनिक पदार्थों में बदल देती हैं। वे अन्य जीवों के लिए आवास भी बनाते हैं। यह सीडिंग मोमेंट में भी काम करता है। चींटियाँ मिट्टी में शुष्क कार्बन की मात्रा बढ़ा देती हैं। चींटियाँ समूहों में काम करती हैं। इसके साथ ही ये पारिस्थितिक तंत्र के संतुलन को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। चींटियाँ ऐसे जीव हैं जो हर जगह पाए जाते हैं। प्रत्येक प्रकार के आवास में इनका निवास स्थान होता है।

अब आते हैं उस बिंदु पर जहां से हमने इस खबर की शुरुआत की थी। आखिर पृथ्वी पर चींटियों की आबादी कितनी है? जनसंख्या की बात करते हुए आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि शोधकर्ता ने इनकी गणना कैसे की? आपको बता दें कि चीटियों को गिनने के लिए शोधकर्ता ने कई भाषाओं के साहित्य का हवाला दिया। इसमें स्पेनिश, फ्रेंच, जर्मन, रूसी, मंदारिन और पुर्तगाली में पेपर शामिल थे। वैज्ञानिकों ने लगभग 498 कागजों का गहराई से अध्ययन किया क्योंकि नमूने लेना और चींटियों का निरीक्षण करना आसान नहीं था। अध्ययन से वैज्ञानिकों को जो पता चला, उसके आधार पर उनकी आबादी 200 लाख करोड़ बताई गई, साथ ही यह भी पाया गया कि धरती पर चींटियों की करीब 15700 प्रजातियां और उप-प्रजातियां हैं, जिनमें से कुछ का अभी तक नाम भी नहीं है। स्थापित है।

Share this story