Samachar Nama
×

सूर्य के करीब जाकर नीला हो रहा ‘ग्रीक हीरो’, एस्‍टरॉयड फेथॉन को लेकर पता चली यह बड़ी बात

;

विज्ञान न्यूज़ डेस्क-हमारे सौरमंडल के ग्रहों के साथ-साथ क्षुद्रग्रह भी सूर्य के चारों ओर तैरते हैं। पृथ्वी से लाखों किलोमीटर दूर हैं ये क्षुद्र ग्रह अपनी विशेषताओं के कारण खगोलविदों के बीच चर्चा में बने रहते हैं। जैसे ग्रह सूर्य से प्रभावित होते हैं, वैसे ही क्षुद्रग्रह भी सूर्य से प्रभावित होते हैं। क्षुद्रग्रह बेन्नू पर हाल के शोध से पता चला है कि सूर्य की गर्मी हर 10,000 से 100,000 वर्षों में बेन्नू की चट्टानों में फ्रैक्चर का कारण बनती है। यह पृथ्वी की तुलना में बहुत तेज है, जिसका अर्थ है कि पृथ्वी की तुलना में क्षुद्रग्रहों पर सतह का पुनर्जनन तेज है, और बेन्नू के साथ भी ऐसा ही है। अब एक और क्षुद्रग्रह फेथॉन के बारे में जानकारी सामने आई है। यह नीला क्षुद्रग्रह अपने रंग की वजह से वैज्ञानिकों को आकर्षित कर रहा है।एक अध्ययन में एक क्षुद्रग्रह की सूर्य से निकटता और उसके नीले रंग के बीच संबंध पाया गया। ऑनलाइन जर्नल इकारस में प्रकाशित एक अध्ययन का दावा है कि तीव्र सौर विकिरण का क्षुद्रग्रह की उपस्थिति से कुछ लेना-देना हो सकता है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने 1983 में क्षुद्रग्रह फेथॉन की खोज की थी। इसकी निगरानी एक सैटेलाइट से की गई थी। यह उपग्रह द्वारा खोजा गया पहला क्षुद्रग्रह है। फेथॉन का नाम ग्रीक नायक के नाम पर रखा गया है। यह क्षुद्रग्रह कई मायनों में खास है। यह एकमात्र क्षुद्रग्रह है जो उल्कापिंडों की वर्षा करता है। अन्य सभी उल्का वर्षा धूमकेतुओं से उत्पन्न होती हैं। फेथॉन उल्का बौछार दिसंबर में उत्तरी गोलार्ध में दिखाई दे रही है।जब फेथॉन सूर्य के चारों ओर अपनी कक्षा में अपने निकटतम बिंदु 'पेरीहेलियन' पर पहुंचता है, तो यह 800 डिग्री सेल्सियस तक गर्म हो जाता है। भीषण गर्मी इस क्षुद्रग्रह की रासायनिक संरचना में अजीबोगरीब बदलाव लाती है। अध्ययनों से पता चला है कि गर्मी लोहे और अन्य कार्बनिक यौगिकों जैसे पदार्थों को प्रभावित करती है, जिनका रंग लाल होता है। वे गर्मी से वाष्पीकृत हो जाते हैं और जो बचे हैं वे गहरे नीले रंग के तत्व और रासायनिक यौगिक हैं। इसलिए क्षुद्रग्रह चमकते हैं। हालांकि, एक सवाल का अध्ययन ने जवाब नहीं दिया कि केवल लाल रंग के यौगिक ही क्यों पिघलते हैं।

Share this story