Samachar Nama
×

एलियंस’ की तलाश में समुद्र खोदेंगे साइंटिस्‍ट! जानें क्‍या करने वाले हैं

,

विज्ञान न्यूज डेस्क - एलियंस एक ऐसा विषय है जिसने दुनिया भर के लोगों, वैज्ञानिकों और सरकारों को मोहित किया है। अमेरिका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक के वैज्ञानिक एलियंस के बारे में जानकारी जुटाने में लगे हुए हैं। हार्वर्ड के एक प्रोफेसर का मानना ​​​​है कि लगभग एक दशक पहले ऑस्ट्रेलिया के पास दक्षिण-पश्चिमी प्रशांत महासागर में दुर्घटनाग्रस्त हुआ उल्कापिंड एक विदेशी अंतरिक्ष यान हो सकता है। प्रोफेसर एवी लोएब इस रहस्यमयी चीज को बरामद करने के लिए 22 लाख डॉलर (करीब 17 करोड़ 99 लाख 31 हजार 400 रुपये) के मिशन की योजना बना रहे हैं। प्रोफेसर लोएब जिस उल्कापिंड की बात करते हैं, वह 2014 में ऑस्ट्रेलिया के पड़ोसी पापुआ न्यू गिनी के तट से लगभग 160 किलोमीटर दूर प्रशांत महासागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। लोएब का मानना ​​है कि उनका अभियान इस सवाल का जवाब दे सकता है कि क्या हम ब्रह्मांड में अकेले हैं। लोएब यह समझने के लिए उल्कापिंड को खोजना और जांचना चाहता है कि क्या यह सिर्फ एक अंतरिक्ष चट्टान है या किसी अन्य सभ्यता का अंतरिक्ष यान है। ऐसा प्रतीत होता है कि लोएब ने अपने अभियान के लिए धन जुटाया है। 

उनकी टीम समुद्र तल का पता लगाएगी और उल्कापिंड की संरचना का पता लगाएगी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह स्पेस रॉक पृथ्वी पर आने वाली तीसरी ऐसी चीज है, जिसके बारे में जानकारी है। न जाने कितनी और अंतरिक्ष की चट्टानें धरती पर गिर चुकी हैं। लोएब को लगता है कि एलियंस का अस्तित्व है, लेकिन उसके पास इसे साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है। उन्हें लगता है कि इस बारे में और अध्ययन करने की जरूरत है। लोएब का मानना ​​है कि उनके अभियान से एलियंस के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी का पता चल सकता है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर तारों का निर्माण सूर्य से 5 अरब साल पहले हुआ था। उनके आसपास किसी भी सभ्यता के फलने-फूलने के लिए काफी समय था। वहाँ कोई सभ्यता हो सकती है जो हम तक पहुँचने की कोशिश करेगी। उन्होंने कहा कि हमें यह स्वीकार कर लेना चाहिए कि हम इस ब्रह्मांड में सबसे चतुर नहीं हैं। एलियंस के बारे में जानने के लिए हमें न केवल ऊपर देखने की जरूरत है, बल्कि हमें नीचे देखने की भी जरूरत है।

Share this story