Samachar Nama
×

17 साल बाद उल्टी दिशा में घूमने लगेगी धरती, फिर क्या आएगा प्रलय? रिपोर्ट में सामने आई बड़ी बात

,

विज्ञान न्यूज़ डेस्क - धरती से जुड़े कई ऐसे रहस्य और कई सवाल हैं, जिनके जवाब वैज्ञानिक आज भी तलाश रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि पृथ्वी का भीतरी भाग गर्म और ठोस लोहे से बना है। इससे पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र और गुरुत्वाकर्षण बल बनता है। ऐसा पृथ्वी के केंद्र में एक ही दिशा में घूमने के कारण होता है। अब क्या होगा यदि पृथ्वी का घूमना कुछ समय के लिए रुक जाए या वह विपरीत दिशा में घूमने लगे। क्या पृथ्वी पर भयंकर भूकंप आएगा? क्या इसका गुरुत्वाकर्षण बल समाप्त हो जाएगा? इसके चुंबकीय क्षेत्र पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

वैज्ञानिकों की एक टीम ने दावा किया है कि पृथ्वी का कोर अपनी घूर्णन दिशा बदल सकता है। इससे पहले परिक्रमा बंद हो जाएगी। नेचर जियोसाइंस में इस संबंध में एक रिपोर्ट भी प्रकाशित की गई है। बता दें कि पृथ्वी के केंद्र का घूमना इसके ऊपर की सतह को स्थिर करता है। जानकारों का कहना है कि करीब 70 साल बाद पृथ्वी की परिक्रमा में बदलाव हो रहा है। हालांकि वैज्ञानिकों का मानना है कि रोटेशन को कुछ सेकंड के लिए रोकने या दिशा बदलने से पृथ्वी पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा।

आपको बता दें कि साल 1936 में डच वैज्ञानिक इंग लेहमन ने पता लगाया था कि पृथ्वी का लिक्विड कोर एक धातु के गोले के चारों ओर लिपटा हुआ है। पृथ्वी के केंद्र को पढ़ना काफी कठिन है। वहां से सैंपल भी नहीं लिए जा सकते। लेकिन भूकंप और परमाणु परीक्षण पृथ्वी के केंद्र को बहुत प्रभावित करते हैं। इससे पृथ्वी के कोर के बारे में अध्ययन करने में मदद मिलती है।

नेचर जियोसाइंस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, करीब हर 70 साल बाद पृथ्वी के केंद्र में घूमने की दिशा में बदलाव होता है। लेकिन अब माना जा रहा है कि यह बदलाव 17 साल में होगा और पृथ्वी का केंद्र विपरीत दिशा में घूमने लगेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि पृथ्वी के केंद्र के घूमने की दिशा में बदलाव से प्रलय जैसी स्थिति नहीं होगी। यह ग्रह या उसके प्राणियों को प्रभावित नहीं करेगा।

Share this story