Samachar Nama
×

मोस्ट डिजायरेबल पर्सन बनना चाहते है आप तो ये टिप्स आ सकती है आपके काम 

फगर

ग्लैमर का मतलब सिर्फ फिजिकल अपीयरेंस नहीं है। पहनावा भी नहीं। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आप दूसरों को कितना आकर्षित करते हैं। उन्हें सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। अगर हमारे पास व्यक्तित्व है, आत्मविश्वास है और खुश रहना है, तो दूसरे हमसे अपनी नजरें नहीं हटाएंगे। वे उन्हें आकर्षित करते हैं।
विशेष रूप से ऐसे लोगों से प्यार करते हैं जिनके पास ऐसा कुछ है। आसपास बहुत सारे लोग हैं जो उसी व्यक्ति से प्यार करते हैं कि वे दूसरों को कितना आनंद और खुशी देते हैं। इस तरह आप चारों आकर्षक लगेंगे। इसके लिए आपको कुछ नियमों का पालन करना होगा।

1. बॉडी लैंग्वेज ..
हमारी बॉडी लैंग्वेज हमारी विशेषताओं को बाहर से दृश्यमान बनाती है। इससे दूसरों के लिए हमें जज करना आसान हो जाता है। अनिच्छुक, ऐसे लोगों से तब तक बात करने को तैयार नहीं जब तक कि उन्हें आराम न दिया जाए। अपने चेहरे को टाइट रखने के बजाय कभी-कभी थोड़ा मुस्कुराएं। चेहरे और कंधों को रिलैक्स रखें। अगर आप अपनी भौहें तेज रखेंगे तो दूसरों का ध्यान आप पर सकारात्मक रूप से लगेगा। सिर के साथ भी ... वे ऐसे दिखते हैं जैसे वे घूम रहे हों।

2. पर्स या चश्मा..
आमतौर पर जब महिलाएं बात करना पसंद नहीं करतीं.. या बात नहीं करना चाहतीं.. तो वे अपने हाथ में पर्स कस कर पकड़ लेती हैं. पुरुष अपना चश्मा अपनी शर्ट पर चिपका लेते हैं ताकि वे किसी से बात करने से हिचकिचाएं। इस प्रक्रिया का पालन करने से आपको पता चल जाएगा कि आप किससे बात करना चाहते हैं।

3. लाल कपड़े..
लाल प्यार, जुनून का प्रतीक है। इसलिए अपनी पसंदीदा पार्टी या इवेंट में लाल रंग पहनने की आदत डालें। आप इसके प्रति अधिक आकर्षित भी होंगे। अधिकांश लोग आपसे सकारात्मक बात करने को तैयार हैं।

4. सीधा ..
जब आप किसी से बात करते समय सीधे बैठते हैं तो यह आत्मविश्वास और ताकत की अभिव्यक्ति बन जाता है। यह दूसरों को आकर्षित करता है। नहीं तो खड़े या खड़े होने पर रीढ़ मुड़ी हुई हो तो आपमें रुचि कम हो जाएगी।


5. हँसी..
हमेशा मुस्कुराते रहने वालों का भी मूड सकारात्मक होता है। हंसी आकर्षक है।
ऐसे लोगों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताना होगा। हंसी आपके साथ जुड़ना आसान बनाती है।

6. स्वाभाविक रूप से ..
दूसरों का ध्यान आकर्षित करने के लिए खुद पर सख्त होने की कोशिश न करें। इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। दूसरों के साथ स्वाभाविक रूप से मज़ेदार होने का अभ्यास करें। कड़े शब्दों का प्रयोग कदापि नहीं करना चाहिए। अच्छे शब्दों का ही प्रयोग करना चाहिए।

Share this story