Samachar Nama
×

सर्दियों में ये हेल्थ प्रॉब्लम बन सकती हैं जानलेवा, ऐसे रहें सतर्क

;

लाइफस्टाइल न्यूज़ डेस्क,सर्दी का मौसम कुछ लोगों के लिए इतना खतरनाक होता है कि उनकी जान तक को खतरा हो जाता है। ये लोग एक ऐसी स्वास्थ्य समस्या के शिकार होते हैं कि इन्हें हर समय अपना विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। दरअसल, हम बात कर रहे हैं अस्थमा के मरीजों की, जिन्हें सर्दियों में हर समय सांस लेने में दिक्कत होती है। क्या आप भी इस बीमारी की चपेट में हैं?

इससे अस्थमा होता है
इस गंभीर बीमारी में सांस लेने में काफी दिक्कत होती है। विशेषज्ञों के अनुसार इस रोग में सांस की नलियों में सूजन बनी रहती है और इससे सांस लेने का तरीका छोटा या संकरा हो जाता है। सांस की नलियां संकरी होने पर सांस लेना मुश्किल हो जाता है, इसके अलावा खांसी की समस्या भी हर समय बनी रहती है। इस दौरान सीने में घरघराहट, सीने में जकड़न जैसी समस्याएं भी होने लगती हैं। आंकड़ों के मुताबिक दुनिया में करीब 23.5 करोड़ लोग अस्थमा की समस्या से जूझ रहे हैं। इसकी वजह से करीब 4 करोड़ युवा लड़कियां अस्थमा की चपेट में आ जाती हैं।

अस्थमा का मुख्य कारण
विशेषज्ञों का कहना है कि जिन जगहों पर प्रदूषण ज्यादा होता है, वहां अस्थमा से पीड़ित होने की संभावना ज्यादा होती है। दूषित हवा हमारे फेफड़ों को संक्रमित करती है और फेफड़ों में होने वाली यह बीमारी कभी पीछा नहीं छोड़ती है। जो लोग अस्थमा के मरीज हैं, उन्हें भूलकर भी ऐसी जगहों पर नहीं जाना चाहिए, जहां प्रदूषण का स्तर ज्यादा हो, क्योंकि इससे जानलेवा स्थिति भी बन सकती है।

ऐसे रहें अलर्ट
अस्थमा के अंतर्निहित कारणों को पूरी तरह से समझा नहीं गया है। यह बीमारी बुजुर्गों और बच्चों में आम है। अस्थमा से बचाव अस्थमा के मरीजों को धूल, मिट्टी या खुले वातावरण से बचना चाहिए और धूम्रपान नहीं करना चाहिए। इसके अलावा ठंडी जगह और ठंडे पानी पीने से बचना चाहिए। अस्थमा से पीड़ित लोगों को बाहर निकलते समय मास्क पहनना चाहिए। धूल, गंदगी आपके लिए सांस लेना मुश्किल कर सकती है, जिससे अस्थमा अटैक का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा ब्रीदिंग एक्सरसाइज के रूटीन को भी फॉलो करना चाहिए।

Share this story