Samachar Nama
×

सेविंग अकाउंट से होने वाली कमाई पर भी लगता है टैक्स, जानिये कब और कैसे?

ffffff
यूटिलिटी न्यूज़ डेस्क !!! बैंक में बचत खाता होना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक आपातकालीन निधि के रूप में कार्य करता है। इससे जब भी जरूरत हो पैसा निकाला जा सकता है। लेकिन अगर यह पैसा एफडी, एनएससी जैसी योजनाओं में लगाया जाता है तो इसे एक निश्चित समय के लिए नहीं निकाला जा सकता है। इसलिए बचत खाता होना जरूरी है। इन बचत खातों में पैसा रखने के बजाय बैंक ब्याज भी देते हैं। कुछ बैंकों में यह ब्याज 2.7 फीसदी से 4 फीसदी या इससे भी ज्यादा हो सकता है। आम तौर पर, अधिकांश प्रमुख बैंक 2.7 प्रतिशत से 4 प्रतिशत के बीच ब्याज देते हैं। आईडीएफसी बैंक में यह ब्याज 7 फीसदी है।

लेकिन कई लोगों को यह नहीं पता होता है कि उनके सेविंग अकाउंट में रखे पैसों पर ब्याज कैसे लगता है। बहुत से लोग इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं कि उनके खाते में कब और कितना ब्याज जोड़ा जाता है। दरअसल अब बैंक बचत खाते पर मिलने वाले ब्याज की गणना रोजाना करते हैं। कुछ बैंक इसे आपके खाते में तिमाही आधार पर जोड़ते हैं, जबकि कुछ बैंक इसे छमाही आधार पर आपके खाते में जोड़ते हैं। जिसकी जानकारी आपको नेट बैंकिंग के जरिए बैलेंस चेक करने या पासबुक एंट्री चेक करने पर मिल जाती है। इसलिए आपके लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि ब्याज कैसे जोड़ा जाता है।
आज की बड़ी खबर
बचत पर ब्याज कैसे जोड़ें

भारत में मौजूद हर बैंक सालाना 4 से 6 फीसदी तक ब्याज देता है। यह ब्याज बैंकरों द्वारा दैनिक आधार पर जोड़ा जाता है और तिमाही आधार पर आपके खाते में जोड़ा जाता है, जिसे आप पासबुक प्रविष्टि या शेष राशि की जांच करके पता लगा सकते हैं। बेहतर समझ के लिए नीचे उदाहरण देखें

मान लीजिए आपके बचत खाते में महीने के पहले दिन 50 हजार रुपये हैं। यह संतुलन पहले दिन से पांचवें दिन तक बना रहा। तो 50,000 (जमा राशि) X 4 (ब्याज दर)/100 उस राशि (2000) को 365 (वर्ष में दिन) से विभाजित करते हैं, इसलिए आपको प्रति दिन 5.57 ब्याज मिलता है। अब पांच दिन का ब्याज पाने के लिए इसे 5 से गुणा करें। इसका मतलब है कि आपने 5 दिनों में अपने खाते में 27.35 रुपये का ब्याज अर्जित किया है।

अब मान लीजिए आपने बैंक से 4 हजार रुपए निकाले हैं। लिहाजा बाकी 46 हजार रुपये पर आने वाले दिनों में ब्याज जोड़ा जाएगा। इसके बाद मान लीजिए कि 10 तारीख को खाते में 14 हजार रुपए जमा हुए। इससे 60 हजार रुपए बैलेंस हो जाएगा और उस पैसे पर ब्याज जुड़ जाएगा।
ब्याज पर इनकम टैक्स देना होता है

बैंक खाताधारक को बैंक के बचत खाते में रखी राशि पर अर्जित ब्याज पर कर देना होता है। बैंक ब्याज पर 10 फीसदी टीडीएस काटता है। बलवंत जैन कहते हैं कि ब्याज पर टैक्स देना होता है, लेकिन टैक्स कटौती का भी लाभ उठाया जा सकता है। आयकर अधिनियम की धारा 80TTA के अनुसार, सभी व्यक्ति 10 हजार तक की कर कटौती का लाभ उठा सकते हैं। अगर ब्याज 10,000 रुपये से कम है तो कोई टैक्स नहीं देना होगा।

Share this story