Samachar Nama
×

डायबिटीज के मरीज रोजाना खाएं 30 ग्राम कच्चे चावल, शुगर रहेगी कंट्रोल

;

लाइफस्टाइल न्यूज़ डेस्क,मधुमेह तेजी से फैलने वाली बीमारी है। आपको बता दें कि भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में डायबिटीज यानी शुगर के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। सिर्फ भारत में ही डायबिटीज के मरीजों की संख्या करीब 5 करोड़ है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, साल 2030 तक भारत में डायबिटीज के मरीजों की संख्या 8 करोड़ को पार कर जाएगी। दुनिया भर में 230 मिलियन लोग इस पुरानी बीमारी के साथ जी रहे हैं। इस बीमारी के मरीज हमेशा इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं कि क्या खाएं और क्या नहीं।

कच्चे चावल खा सकते हैं
ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए शुगर के मरीजों को एक्सपर्ट की सलाह के साथ ही अपनी डाइट में चावल को शामिल करना चाहिए. विशेषज्ञों के मुताबिक मधुमेह रोगियों को यह भी पता होना चाहिए कि चावल कितनी मात्रा में खाना चाहिए। विशेषज्ञों के अनुसार यदि मधुमेह रोगी दिन में कम से कम 30 ग्राम कच्चे चावल खा सकते हैं तो दवा से ब्लड शुगर को नियंत्रित करना संभव है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रिशन गाइडलाइंस बताती है कि मधुमेह रोगियों में दैनिक कार्बोहाइड्रेट का सेवन रोगी की ऊंचाई, वजन, व्यायाम और आहार पर निर्भर करता है। विशेषज्ञों के अनुसार, मधुमेह रोगी निश्चित समय अंतराल पर छोटे हिस्से में कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी का सेवन कर सकते हैं।

डायबिटीज के मरीज इस आहार का सेवन करें
शुगर के मरीजों को एक दिन में 45 से 60 ग्राम कार्बोहाइड्रेट ही लेने की सलाह दी जाती है। चूंकि चावल में कार्बोहायड्रेट अधिक होता है। इसलिए शुगर के मरीजों को इसे खाने से मना किया जाता है। हालांकि, सभी चावलों के साथ ऐसा नहीं होता है, क्योंकि कई ऐसे चावल होते हैं, जिनमें जीआई भी कम होता है और कार्बोहाइड्रेट भी कम पाया जाता है। जिन चावलों में कम स्टार्च पाया जाता है उनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। इसके लिए उसना चावल सबसे अच्छा विकल्प है। इसके अलावा बासमती, ब्राउन और जंगली चावल में भी जीआई बहुत कम होता है।

Share this story