Samachar Nama
×

इस फल को खाने से पेट की चर्बी हो जाएगी गायब , फटाफट मिलेगा फायदा 

इ

स्वास्थ्य विशेषज्ञ वजन कम करने और पेट की चर्बी कम करने के लिए ताजे फल खाने की सलाह देते हैं। क्योंकि ताजे फल हमारे पेट के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं और वजन घटाने में मदद करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दिन में 2 नाशपाती खाने से भी पेट की चर्बी कम हो सकती है। पेट की चर्बी कम करने के साथ-साथ रोजाना एक मध्यम आकार का नाशपाती खाने के और भी कई फायदे हैं।

रोजाना 2 मध्यम आकार के नाशपाती खाने से पेट की चर्बी कम होगी

एनसीबीआई पर प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, दिन में 2 मध्यम आकार के नाशपाती खाने से पेट की चर्बी कम हो सकती है। यह अध्ययन रक्तचाप पर नियमित नाशपाती के सेवन के प्रभाव का पता लगाने के लिए किया गया था। लेकिन, परिणामों ने शोध प्रतिभागियों के कमर के आकार को भी कम कर दिया। शोध से पता चला है कि अगर आप 12 हफ्ते तक रोजाना 2 नाशपाती का सेवन करते हैं तो आपके पेट की चर्बी कम हो सकती है।

नाशपाती पेट की चर्बी कम करने में कैसे काम करती है

डायटीशियन के अनुसार फाइबर से भरपूर आहार पेट को लंबे समय तक भरा रखने में मदद करता है और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है। जिससे फैट तेजी से बर्न होता है। नाशपाती में बहुत सारा पानी होता है, जिससे शरीर में डिहाइड्रेशन नहीं होता और पाचन तंत्र ठीक से काम करता है।इन चीजों के अलावा नाशपाती कैलोरी में कम और विटामिन सी से भरपूर होती है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है।

नाशपाती के फायदे

नाशपाती के सेवन से कब्ज दूर होती है। प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। शरीर को प्रोटीन, कार्ब्स, जिंक, पोटैशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम आदि तत्वों की मात्रा मिलती है।

नाशपाती फल प्रोटीन से भरपूर होता है

नाशपाती खनिज, पोटेशियम, विटामिन सी, विटामिन के, फाइबर, बी कॉम्प्लेक्स से भरपूर होती है। हालांकि, कुछ लोग इसे छीलकर खाना पसंद करते हैं। छीलने और खाने से इसके पोषक तत्वों का पूरा लाभ नहीं मिलता है क्योंकि छाल में पोषक तत्व भी होते हैं।

नाशपाती पत्थरों के लिए भी उपयोगी होती है

नाशपाती पित्त पथरी के लिए भी रामबाण इलाज है। नाशपाती में मौजूद पेक्टिन प्राकृतिक रूप से पथरी का उत्सर्जन करता है। सबसे महत्वपूर्ण बात, आहार फलदायी है। यह खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है। फाइबर होने के कारण यह पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाता है। नाशपाती मधुमेह में ताबीज के समान है। लगभग सभी डॉक्टर भी नाशपाती खाने की सलाह देते हैं।

Share this story