Samachar Nama
×

मछली और दही को एक साथ खाने के क्या है साइड इफेक्ट, डॉक्टर से जानें हकीकत

क

दही और मछली की जोड़ी का प्रभाव: बचपन से ही हमारे बुजुर्ग हमें मछली के साथ दूध या दही नहीं खाने के लिए कहते हैं। लेकिन इस बारे में विज्ञान का क्या कहना है, यह जानना जरूरी है। दही और मछली दोनों ही पौष्टिक आहार हैं। मछली प्रोटीन, विभिन्न विटामिन, ओमेगा 3 फैटी एसिड आदि से भरपूर होती है, जबकि दही कैल्शियम, प्रोटीन, आयोडीन, पोटेशियम, फास्फोरस आदि से भरपूर होता है। चूंकि दोनों प्रोटीन के समृद्ध स्रोत हैं, इसलिए दोनों को एक साथ खाना प्रतिबंधित है। आयुर्वेद में दही और मछली एक साथ खाना वर्जित माना गया है। आयुर्वेदिक चिकित्सक सुजिता मुत्रेजा ने कहा कि आयुर्वेद में दही और मछली को भोजन विरोधी माना गया है। इसलिए दोनों को एक साथ खाने से कई तरह के नुकसान हो सकते हैं।

डॉ. सुजिता मुत्रेजा ने कहा कि दही और मछली प्रोटीन से भरपूर होते हैं, लेकिन इन दोनों प्रोटीनों में अंतर होता है। दोनों में अलग-अलग तरह के प्रोटीन होते हैं। इसलिए अगर दही और मछली को एक साथ खाया जाए तो पाचन क्रिया में दिक्कत होती है। इससे गैस और एसिडिटी का निर्माण होता है। अनुचित पाचन के कारण अग्निबंध हो सकता है, जिसके कारण बाद में त्वचा पर दाने दिखाई दे सकते हैं।


दही और मछली एक साथ खाने से सभी को परेशानी होती है। लेकिन ये जरूरी नहीं है। एसिडिटी और गैस की समस्या तुरंत हो सकती है। लेकिन डॉ. सुजिता का कहना है कि अगर आपका पाचन तंत्र स्वस्थ है तो उसका पाचन आसान हो जाएगा। इसलिए कई लोगों को दही और मछली एक साथ खाने से कोई परेशानी नहीं होती है। वहीं अच्छी एक्सरसाइज करने वालों को भी कोई दिक्कत नहीं होती है।

डॉ. सुजिता ने कहा कि जिन लोगों का पाचन तंत्र खराब होता है, उन्हें आयुर्वेद में अग्नि कहा जाता है। ऐसे लोगों के लिए मछली और दही एक साथ खाने से तुरंत परेशानी हो सकती है। वास्तव में, दही शाकाहारी प्रोटीन का स्रोत है जबकि दूसरा पशु प्रोटीन का स्रोत है। दूसरी ओर, दही पित्तज और मछली जल में रहने वाले जीव हैं। दही किण्वित किया जाता है। इसलिए आयुर्वेद में इन दोनों को एक साथ लेने की मनाही है। आयुर्वेद में इसे दूसरा जहर माना गया है। डॉ. सुजिता ने कहा कि दही और मछली के लंबे समय तक सेवन से त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं और बाद में आंखों की समस्या भी हो सकती है। इतना ही नहीं, यह प्रजनन क्षमता पर भी नकारात्मक प्रभाव डालता है।

Share this story