Samachar Nama
×

Olive oil: खाने के साथ ही स्किन के लिए भी फायदेमंद है ऑलिव ऑयल!

सक

जोड़ों में दर्द के साथ जोड़ों में सूजन आ जाती है। जबरदस्त दर्द होता है। इससे भी अधिक चिंता की बात यह है कि जोड़ों के दर्द को स्थायी रूप से ठीक करना असंभव है। मरीजों को राहत देने का एकमात्र तरीका दर्द को कम करने का प्रयास करना है। ऐसे कई खाद्य पदार्थ और दवाएं हैं जो रोगियों को दर्द कम करने में मदद कर सकती हैं। जैतून का तेल एक ऐसा अद्भुत भोजन है। अध्ययनों से पता चला है कि यह गठिया वाले लोगों में संयुक्त क्षेत्रों के आसपास जोड़ों की सूजन और दर्द को कम करता है। जैतून के तेल के तीन मुख्य ग्रेड हैं: परिष्कृत तेल, कुंवारी जैतून का तेल और अतिरिक्त कुंवारी जैतून का तेल। अतिरिक्त कुंवारी जैतून का तेल सबसे कम संसाधित होता है। यह बहुत ही सेहतमंद बताया जाता है। इसका स्वाद भी अच्छा होता है।

*विरोधी भड़काऊ गुण

एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। इसमें पाए जाने वाले मुख्य एंटीऑक्सीडेंट में से एक ओलियोकैंथल है। ओलियोकैंथल संयुक्त अपक्षयी रोग, सूजन संबंधी बीमारियों, कुछ प्रकार के कैंसर और न्यूरो-डीजेनेरेटिव रोग से लड़ता है।

*शोध क्या कहता है?

जैतून का तेल गठिया से पीड़ित रोगियों में होने वाले परिवर्तनों पर अध्ययन किया गया है। एक यादृच्छिक नैदानिक ​​परीक्षण के हिस्से के रूप में ईरान के अराक में किए गए 2020 के एक शोध अध्ययन में पाया गया कि अतिरिक्त कुंवारी जैतून का तेल संधिशोथ अभिव्यक्तियों को नियंत्रित करने में प्रभावी था। एक अन्य अध्ययन में दावा किया गया है कि जैतून के तेल में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट सूजन-रोधी दर्द निवारक दवा इबुप्रोफेन के समान हैं। ओलिक एसिड रक्त में सी-रिएक्टिव प्रोटीन की मात्रा को कम करता है। सी-रिएक्टिव प्रोटीन गठिया की स्थिति में एक भड़काऊ मार्कर है।

* कितना एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल का सेवन करना चाहिए?

हालांकि एक्स्ट्रा वर्जिन जैतून का तेल मानव शरीर के लिए अच्छा होता है, लेकिन इसका अधिक सेवन करने से समस्या हो सकती है। विभिन्न स्वास्थ्य रिपोर्टों के अनुसार, प्रतिदिन 1-4 बड़े चम्मच जैतून का तेल अच्छा होता है।

* इसे किस समय लेना चाहिए?

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल का दिन में निश्चित समय पर इस्तेमाल करने से बेहतर परिणाम मिलते हैं। इसके सूजन-रोधी लाभों के लिए जैतून के तेल का सेवन सुबह के समय करना चाहिए। ऐसा करने से त्वचा की सेहत और पेट के कैंसर से बचा जा सकता है।

गठिया के रोगियों को क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

अर्थराइटिस के मरीजों को हमेशा अपने वजन पर नियंत्रण रखने की कोशिश करनी चाहिए। बुरी आदतें बंद करो। जोड़ों को ठीक से हिलाना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। केवल कम प्रभाव वाले व्यायाम ही करने चाहिए। दर्द निवारक दवाओं का प्रयोग कम करना चाहिए।

Share this story