Samachar Nama
×

बारिश के मौसम में हरी पत्तेदार सब्जियां खाना पड़ सकता है सेहत पर भारी

फे

आमतौर पर हम सभी मानते हैं कि हरी सब्जियों का सेवन हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है, लेकिन आज हमें उन सब्जियों के बारे में चर्चा करनी है जिनका बारिश के मौसम में सेवन करने पर स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। क्‍योंकि इनमें से कुछ सब्जियां खाने से इंफेक्‍शन और पेट संबंधी समस्‍याएं हो सकती हैं। मानसून के मौसम में इम्युनिटी पावर का मजबूत होना बहुत जरूरी है। आइए जानते हैं उन सब्जियों के बारे में जिन्हें मानसून में नहीं खाना चाहिए।

मशरूम
मानसून में मशरूम का सेवन शरीर को कई तरह से नुकसान पहुंचाता है। मानसून में मशरूम का सेवन संक्रमण को बढ़ावा देता है, जिससे शरीर में बुखार, वायरल संक्रमण और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। बरसात के मौसम में मशरूम का सेवन स्वच्छता की दृष्टि से भी अच्छा नहीं होता है।

बैंगन

मानसून के मौसम में बैगन खाने से बचना चाहिए क्योंकि यही वह समय होता है जब बैंगन के पौधे फल लगते हैं, जिसके कारण इस समय बैगन के पौधों पर कीट हमला कर देते हैं। ये कीट आसानी से बैंगन में प्रवेश कर जाते हैं। ये कीड़े शरीर को कई तरह से नुकसान पहुंचा सकते हैं। तो अगर आप इस बार बैगन खाने की सोच रहे हैं तो ध्यान से सोच लें।

शिमला मिर्च
शिमला मिर्च मानसून में तेजी से खराब हो जाती है, जिससे इसमें तरह-तरह के बैक्टीरिया पनपने लगते हैं, जो शरीर के लिए हानिकारक होते हैं। मानसून में शिमला मिर्च खाने से भी खुजली और त्वचा पर रैशेज आदि समस्याएं हो सकती हैं।

हरे पत्ते वाली सब्जियां
मानसून में हरी पत्तेदार सब्जियां भी जल्दी खराब हो जाती हैं, जिससे उनमें बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। हरी पत्तेदार सब्जियों पर कभी-कभी छिड़का दूषित पानी भी स्वास्थ्य को काफी नुकसान पहुंचा सकता है। मानसून के मौसम में हरी पत्तेदार सब्जियों में कीड़े होते हैं जिन्हें खाने से पेट में संक्रमण हो सकता है। हरी पत्तेदार सब्जियां खाने से संक्रामक बैक्टीरिया शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।

आलू और अरेबिका
मानसून के मौसम में आलू और अरेबिका को पचाना मुश्किल होता है, जिसके कारण इन सब्जियों के सेवन से पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। मानसून के मौसम में आलू, अरेबिका और कटहल आदि का सेवन करने से गैस और अपच की समस्या हो सकती है। मानसून में आप इन सब्जियों का सेवन न करें तो बेहतर होगा।

Share this story