Samachar Nama
×

रात में अच्छी नींद चाहिए तो छोड़नी पड़ेंगी ये  खराब आदतें

फगर

नींद हर किसी को जल्दी नहीं आती। लेकिन इन दिनों चैन की नींद सोना वरदान है। कोरोना के चलते जीवन उल्टा हो गया। शांति की कमी है। बाकी आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। कई लोग मनोवैज्ञानिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं। कम से कम उन्हें ठीक से नींद तो नहीं आई। लेकिन यह सब औसत मध्यमवर्गीय प्राणी पर बहुत दबाव डालता है। बहुत से लोग अपनी जीवनशैली के कारण अत्यधिक तनाव का शिकार होते हैं। इसका असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। नींद भी भूखी है। ज्यादातर लोग मेहनत भी करते हैं और सो जाते हैं। लेकिन, वे ठीक से सो नहीं पाए।

अनिद्रा न केवल गंभीर तनाव का कारण बनती है बल्कि शरीर में रक्त परिसंचरण को भी प्रभावित करती है। जिससे रक्त वाहिकाओं में दबाव बनता है और यह धीरे-धीरे हृदय को प्रभावित करता है।

सोने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आपका बेडरूम शांत और शांत हो। सुनिश्चित करें कि सोते समय कमरे में ज्यादा रोशनी न हो। बेहतर होगा कि रात के खाने के बाद कॉफी, चाय या कोल्डड्रिंक बिल्कुल न लें। हर रात समान मात्रा में नींद लें। एक दिन की झपकी (पावर नैप) लगाएं। ज्यादा देर तक न सोएं। अगर आप रात को अच्छी नींद लेना चाहते हैं तो आपको कम से कम आधा घंटा दिन के उजाले में बिताना चाहिए। गुनगुना दूध पिएं। दूध में ट्रिप्टोफैन नाम का अमीनो एसिड होता है। यह आपको बेहतर नींद देता है।

सोने से पहले किताबें न पढ़ें और न ही टीवी देखें। सोते समय शराब का सेवन नहीं करना चाहिए। हालांकि, अध्ययन ने साबित कर दिया कि नींद बहुत अच्छी है, खासकर रात में। हाल ही में शोधकर्ताओं ने कुछ मध्यम आयु वर्ग के पुरुषों और महिलाओं में संवहनी कार्य का परीक्षण किया।

अध्ययन में पाया गया कि रात में छह घंटे से कम सोने वाले 27 प्रतिशत लोगों में हृदय रोग का खतरा अधिक था। छह से सात घंटे से कम सोने वालों में यह समस्या अधिक गंभीर पाई गई।

Share this story