Samachar Nama
×

क्या आप कॉफ़ी पीते है? , तो इन बातो का रखे ध्यान 

अड़

अपने दिन की शुरुआत ढेर सारी एनर्जी के साथ करने के लिए.. ज्यादातर लोग सुबह के समय गर्मागर्म कॉफी पीते हैं. मौजूदा मानसून के मौसम में ज्यादातर शरीर की गर्मी बढ़ाने के लिए कॉफी का सेवन किया जाता है। हालांकि, अगर अधिक मात्रा में सेवन किया जाता है, तो कोई भी पेय (पेय पदार्थ) स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। कॉफी कोई अपवाद नहीं है। दरअसल कॉफी पीने के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। लेकिन कुछ मामलों में साइड इफेक्ट भी होते हैं। कैफीन, जो कॉफी में उच्च होता है, कुछ लोगों में दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है। इसलिए कॉफी पीते समय कुछ सावधानियां बरतना जरूरी है।

कॉफी, जो एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती है, ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती है और भोजन की लालसा को नियंत्रित करती है। 250 मिलीग्राम कैफीन युक्त कॉफी पीने से भी हृदय स्वास्थ्य मजबूत हो सकता है। हालांकि, कितनी कॉफी पीना अच्छा है यह व्यक्ति पर निर्भर करता है। 400 मिलीग्राम कैफीनयुक्त कॉफी पीने से ज्यादातर लोगों में कोई स्वास्थ्य समस्या नहीं होती है।

400 मिलीग्राम कैफीन का मतलब लगभग चार कप कॉफी है। पोषण विशेषज्ञ भी कहते हैं कि इस स्तर पर कॉफी पीना सुरक्षित है। लेकिन अगर आप इस स्तर पर कॉफी पीने के बाद चिंता, चिड़चिड़ापन, दिल की धड़कन में वृद्धि देखते हैं .. आपको सावधान रहना चाहिए। महसूस करें कि आपके शरीर में कैफीन को सहन करने की ऊर्जा नहीं है।

ऐसे साइड इफेक्ट से बचने के लिए.. बेहतर होगा कि आप कॉफी कम पिएं। केवल 200 मिलीग्राम कैफीन की खुराक वाली कॉफी का सेवन करना चाहिए। पोषण विशेषज्ञों का कहना है कि इस खुराक में कैफीन लेने से कोई नुकसान नहीं होता है। डॉक्टर यह भी सुझाव देते हैं कि गर्भवती महिलाओं को इस स्तर से अधिक कॉफी पीने की सलाह नहीं दी जाती है। कॉफी में मौजूद कैफीन नींद पर काबू पाता है और आपको जगाए रखता है। इसलिए सोने से कम से कम 4-6 घंटे पहले कॉफी न पिएं। यदि आप कॉफी नहीं पीते हैं, तो मेलाटोनिन हार्मोन का उत्पादन होता है और आप जल्दी सो जाते हैं।

इफेड्रिन, थियोफिलाइन, इचिनेशिया युक्त कोई भी दवा लेते समय .. अपने द्वारा लिए जाने वाले कैफीन के स्तर को सावधानीपूर्वक नियंत्रित करें। यह इस तथ्य के कारण है कि ये दवाएं और पूरक कैफीन के साथ परस्पर क्रिया करते हैं। फिर दिल की धड़कन और मतली जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा होता है।

कम कॉफी पीने के टिप्स:

1. पता करें कि आप प्रतिदिन कितनी कैफीन लेते हैं। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और पेय में भी कैफीन होता है। इसलिए अपने द्वारा खाए जाने वाले प्रत्येक भोजन में कैफीन के स्तर पर नज़र रखें।

2. कैफीन का सेवन धीरे-धीरे कम करें। कैफीन का सेवन तुरंत बंद करने से सिरदर्द, मतली, चिंता, एकाग्रता में कमी और चिड़चिड़ापन हो सकता है। इसलिए अपने शरीर को धीरे-धीरे इसकी आदत डालने का मौका दें।

3. अगर आपका कॉफी पीने का मन हो तो.. डिकैफिनेटेड कॉफी पिएं। इसमें कॉफी का असली स्वाद है।

4. कॉफी की जगह हर्बल टी पीने की कोशिश करें।

5. पता करें कि आपकी दवा में कैफीन है या नहीं। कुछ दर्द निवारक दवाओं में कैफीन की मात्रा अधिक होती है। इनका सेवन करने से सबसे खतरनाक दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

Share this story