Samachar Nama
×

विटामिन डी और बी12 की कमी से हो सकती है गंभीर बीमारियां, स्वामी रामदेव से जानें शरीर की कमी को कैसे करें दूर

'

हेल्थ न्यूज़ डेस्क, S.O.S का अर्थ है हमारे जहाजों को बचाओ या हमारी आत्माओं को बचाओ। इस सिग्नल का इस्तेमाल 113 साल पहले डूबते जहाज के नाविक मदद मांगने के लिए करते थे। फिर 3 साल बाद टाइटैनिक ने भी डूबने से पहले यह संकेत दिया। लेकिन आज की दुनिया में किसी भी आपात स्थिति में मदद मांगने के लिए S.O.S सिग्नल का इस्तेमाल किया जाता है। इतना ही नहीं, कोई अलग बीमारी या कमी होने पर हमारा शरीर संकेत भी देता है। इसलिए इन्हें गंभीरता से लेना चाहिए, क्योंकि इनकी अनदेखी करना बहुत खतरनाक होता है और इससे अकाल मृत्यु भी हो सकती है।

एक चौंकाने वाली स्टडी में यह बात साबित भी हुई है। यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया के शोध से पता चला है कि शरीर में केवल विटामिन-डी की कमी से किसी भी घातक बीमारी में मौत का खतरा 25% तक बढ़ जाता है। विटामिन-डी को धूप भी कहा जाता है, क्योंकि इसका मुख्य स्रोत धूप है। वैज्ञानिक रूप से समझा जाए तो जब सूरज की रोशनी शरीर पर पड़ती है तो शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल विटामिन-डी में बदल जाता है और फिर पूरे शरीर में इसकी आपूर्ति हो जाती है। विटामिन कम मिलने से जब यह प्रक्रिया प्रभावित होती है तो मांसपेशियों में दर्द के साथ-साथ जोड़ों में दर्द, बाल झड़ना और कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। इसी तरह अगर विटामिन-बी12 की कमी हो जाए तो शरीर में उचित लाल रक्त कोशिकाएं नहीं बन पाती हैं, जिससे ऊतकों और अंगों को कम ऑक्सीजन मिलती है। नतीजतन, वजन कम होना, चिड़चिड़ापन, थकान और धड़कन जैसी समस्याएं होती हैं।

ज्यादातर लोग सोचते हैं कि लंबे समय तक बैठने या गलत मुद्रा में सोने से कमर दर्द होता है, लेकिन हाल ही में हुए एक शोध से पता चलता है कि बी12 की कमी से भी कमर दर्द हो सकता है। इसी तरह कैल्शियम की कमी से हड्डियां खोखली हो जाती हैं, विटामिन-ई की कमी से आंखें कमजोर हो जाती हैं, वहीं विटामिन-सी की कमी से रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। लेकिन इन सबके बावजूद देश की 60% आबादी के भोजन की थाली में पोषण की कमी है। 80% लोग विटामिन डी और 74% विटामिन बी12 की कमी से परेशान हैं। इतना ही नहीं, 53% महिलाओं में हीमोग्लोबिन कम होता है। जिसका मुख्य कारण है लोगों को खाने के बारे में कम जानकारी तो आइए आज स्वामी रामदेव से जानते हैं कि शरीर की कमी को कैसे दूर किया जाए और भोजन की थाली में पोषण कैसे भरा जाए।

Share this story