Samachar Nama
×

पेशाब में खून आना हो सकता है गंभीर, शरीर के ऐसे लक्षण देते हैं किडनी खराब होने के संकेत

;

हेल्थ न्यूज़ डेस्क, किडनी हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। किडनी न केवल शरीर में फिल्ट्रेशन का काम करती है बल्कि यह एक डिटॉक्सिफाइंग अंग भी है। इसे ऐसे समझें कि आपने जो कुछ भी खाया या पिया है, उसके कचरे को बाहर निकालने की जिम्मेदारी आपकी किडनी की है। ऐसे में क्या होगा जब किडनी की कार्यप्रणाली में कुछ गड़बड़ी हो जाए? दरअसल, आपकी जीवनशैली, कुछ बीमारियां, धूम्रपान और शराब का सेवन आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा कुछ पुरानी बीमारियां भी किडनी खराब होने का कारण बन सकती हैं। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप किडनी खराब होने के शुरुआती लक्षणों को जानें और समय पर इलाज कराएं।

किडनी खराब होने के 4 शुरुआती लक्षण
1. पैरों और हाथों में सूजन- एडिमा
पैरों और हाथों में सूजन को लोग अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं। वहीं, यह आपके लिए हानिकारक हो सकता है। क्योंकि यह पहला संकेत है कि आपकी किडनी फिल्ट्रेशन का काम ठीक से नहीं कर पा रही है। दरअसल, जब किडनी फिल्ट्रेशन का काम ठीक से नहीं करती है तो शरीर में पानी जमा होने लगता है और इससे शरीर में सूजन आ जाती है, जिसे मेडिकल टर्म में एडिमा कहते हैं।

2. खुजली वाली त्वचा
त्वचा पर खुजली और धब्बे एक और संकेत हैं कि आपके शरीर में अपशिष्ट का संचय होता है और यह किडनी से जुड़ा होता है। दरअसल जब किडनी का काम सही नहीं होता है तो शरीर के खून में मिलकर गंदगी फिर से घूमने लगती है। इससे खून की गंदगी बढ़ जाती है और त्वचा में खुजली और दाग-धब्बे होने लगते हैं।

3. पेशाब में खून आना - आपके पेशाब में खून आना
पेशाब में खून आना किडनी की बीमारी का संकेत हो सकता है। दरअसल, आमतौर पर पेशाब में खून नहीं आता क्योंकि किडनी के फिल्टर खून को पेशाब में आने से रोकते हैं। लेकिन, जब किडनी खराब हो जाती है तो यह आपके पेशाब में दिखने लगती है। यह बहुत गंभीर है और इसे नज़रअंदाज़ न करें।

4. मांसपेशियों में ऐंठन
मांसपेशियों में तकलीफ कई कारणों से होती है, जिनमें से एक किडनी खराब होना भी है। दरअसल, किडनी खराब होने से मेटाबॉलिक गतिविधियां प्रभावित होती हैं। इससे मांसपेशियों और नसों को नुकसान पहुंचता है। इससे आपको ऐंठन और दर्द हो सकता है। लोगों को हाथ और पैरों में चुभन महसूस हो सकती है। इसलिए इन सभी लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें और डॉक्टर से मिलें।

Share this story