Samachar Nama
×

Varanasi  कारोबारियों ने शपथपत्र दे स्वीकार की कर चोरी, पांचवें दिन खत्म हुई कार्रवाई, लॉकर का मूल्यांकन बाकी
 

Varanasi  कारोबारियों ने शपथपत्र दे स्वीकार की कर चोरी, पांचवें दिन खत्म हुई कार्रवाई, लॉकर का मूल्यांकन बाकी


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  शहर के छह कारोबारियों के यहां आयकर विभाग की कार्रवाई पांचवें दिन  पूरी हो गई. अधिकारियों के अनुसार सभी ने हलफनामा देकर कर चोरी कबूली है. जो करीब 300 करोड़ की है.
कारोबारियों ने स्वीकारा है कि यदि करचोरी संबंधी आंकड़ों से वह पीछे हटते हैं तो उन पर आयकर अधिनियम व भारतीय दंड संहिता की धाराओं में केस किया जा सकता है. विभागीय सूत्रों की मानें तो कर चोरी के आंकड़े में भी वृद्धि संभव है. कारण, अभी दस लॉकरों में मौजूद सोने-हीरे के जेवर, बेनामी संपत्तियों का मूल्यांकन बाकी है.

आयकर विभाग की कार्रवाई मलदहिया, रथयात्रा, पाण्डेयपुर, रवींद्रपुरी, सरायगोवर्द्धन, महमूरगंज समेत अन्य स्थानों पर दोपहर बाद समाप्त हो गई. वहीं वरुणा गार्डन में दिलीप जायसवाल के आवास पर शाम छह बजे जांच पूरी हुई. कारोबारियों के घर, दफ्तरों की आलमारियों में आभूषण, कागजात, हार्डडिस्क, लैपटॉप, बहीखाते सील कर दिए.
अपर निदेशक जांच अजय कुमार के नेतृत्व में कार्रवाई में सहायक निदेशक (जांच) अरविंद चौहान, शशिकांत यादव, आयकर अधिकारी जेपी चौबे, संगीता सिन्हा, शीतल बभानी, आरएन श्रीवास्तव, राकेश कुमार आदि रहे.
लंबी पूछताछ के बाद टूटे
आयकर विभाग के सामने लंबी पूछताछ के बाद एक कारोबारी ने करीब 80 करोड़ की कर चोरी कबूली है. इसके अलावा एक अन्य ने 20 करोड़ की कर चोरी कबूली है.
मुनाफे का गलत डाटा दिया
एक कारोबारी ने पिछले वर्षों के आयकर रिटर्न में अधिकतम 100 फीसदी मुनाफा स्वीकार किया है. जबकि जांच में 300 फीसदी से अधिक मुनाफा सामने आया है.


वाराणसी न्यूज़ डेस्क
 

Share this story