Samachar Nama
×

Varanasi  दांव पर पांच हजार छात्रों का भविष्य
 

Varanasi  दांव पर पांच हजार छात्रों का भविष्य


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  कुलपति के इंतजार में पांच हजार छात्रों का भविष्य दांव पर लगा है. ये छात्र सीएसजेएमयू से संबद्ध महाविद्यालयों के एमएससी प्रथम वर्ष के हैं. जो वर्ष 2022 की परीक्षा में फेल हो गए हैं.
इन छात्रों को नियमानुसार एक्स के रूप में प्रथम वर्ष में दाखिला मिलना चाहिए. लेकिन विवि इन छात्रों को नई शिक्षा नीति के तहत प्रथम वर्ष में नया दाखिला लेने का दबाव बना रहा है. ऐसे में छात्रों को अतिरिक्त शुल्क देना होगा, जिससे कई छात्र पढ़ाई भी छोड़ सकते हैं. कुलपति की गैरमौजूदगी से

फैसला लंबित है. कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक के खिलाफ आगरा विवि को लेकर लखनऊ में मुकदमा दर्ज है, जिसकी जांच एसटीएफ कर रही है. इस कारण, कुलपति पिछले 22 दिन से विवि से गैरहाजिर हैं. जिसकी वजह से विवि के साथ छात्र-छात्राओं से जुड़े कई फैसले लंबित हो गए हैं. विवि की वार्षिक परीक्षा 2022 में एमएससी के करीब पांच हजार छात्र-छात्राएं फेल हो गए हैं. इन छात्रों को विवि ने एक्स के बजाए नई शिक्षा नीति के तहत नए सिरे से दाखिला लेने का निर्देश दिया है. ऐसे में इन छात्रों को परीक्षा शुल्क के बजाए नए सिरे से फीस जमा करनी होगी. साथ ही, जिन कॉलेजों में ये छात्र पढ़ रहे हैं, वहां प्रथम वर्ष की सीट फुल हो गई है. ऐसे में नए दाखिले के लिए उन्हें दूसरा महाविद्यालय देखना होगा. बीएनडी कॉलेज के प्राचार्य व कूटा के संरक्षक डॉ. विवेक द्विवेदी ने कहा कि एमएससी के फेल छात्रों को एक्स के रूप में ही दाखिला मिलना चाहिए. नए सिरे से दाखिला देना छात्रों के साथ अन्याय है. कूटा के महामंत्री डाक्टर अवधेश सिंह ने विवि में पत्र सौंपकर इन छात्रों के बारे में जल्द से जल्द परीक्षा समिति कराकर फैसला लेने की मांग की.


वाराणसी न्यूज़ डेस्क

Share this story