Samachar Nama
×

Rohtas जिले के एनएच पर 10 व एसएच पर 36 हैं दुर्घटना के ब्लैक स्पॉट,  ब्लैक स्पॉट वाले अधिकतर स्थलों पर नहीं है कोई साइनेज
 

Rohtas जिले के एनएच पर 10 व एसएच पर 36 हैं दुर्घटना के ब्लैक स्पॉट,  ब्लैक स्पॉट वाले अधिकतर स्थलों पर नहीं है कोई साइनेज


बिहार न्यूज़ डेस्क वैसे तो सड़क हादसे कहीं भी हो सकते हैं. लेकिन, ज्यादा सड़क हादसे कट वाले स्थान पर या फिर तीखे मोड़ के पास होती है. ज्यादा दुर्घटना होने वाले जगहों को ब्लैक स्पॉट कहा जाता है. जिला में एनएच पर 10 व एसएच पर लगभग 36 ब्लैक स्पॉट है. जहां ज्यादातार सड़क दुर्घटनाएं होती हैं. लेकिन, ब्लैक स्पॉट वाले अधिकांश जगहों पर कोई साइनेज की व्यवस्था नहीं की गई है. ऐसे में दुर्घटना की संभावना कम करने को लेकर प्रशासनिक उदासिनता लोगों के लिये जानलेवा साबित हो रही है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला से गुजरने वाली दिल्ली-कलकत्ता फोरलेन (एनएच-दो) पर खुर्माबाद, सबराबाद, गिरधरिया मोड़, बुढ़न मोड, काजल होटल, ताराचंडी धाम, माउंटेन व्यू होटल, मेदनीपुर मोड़, सुअरा मोड, माइ जी की कुटिया के पास मार्ग में ज्यादातार सड़क हादसे होते हैं. वहीं, जिला के गुजरने वाली विभिन्न एसएच पर रोहतास में मुरली माईंस मोड़, तिलौथू में पेट्रॉल पंप मोड़, मनहनिया के पास, संझौली में बांणी पुल मोड, मखनहिया मोड, नोखा में नासरीगंज मोड़, सतरबिगहवा मोड़, बरांव मोड़, सासाराम में बैजला मोड़, पुरानी जीटी रोड पर मंडल कारा के समीप, दिनारा में बेलवईया मोड़, गारा नहर पुल, दावथ में मलियाबाग चौक, सूर्यपूरा में कल्याणी मोड़, कोचस में बाजार चौक, बलथरी, खैरा, बाराडीह, हरनाथपुर, उसरांव, मंझौली, कटियरा, चितांव, बिक्रमगंज क्षेत्र में टेढ़की पुल, लक्ष्मणपुर, काराकाट में बरना मोड़, जोरावरपुर, अकोढ़ीगोला क्षेत्र में तेतराढ़, नावाडीह, चांदी, हनुमानगढ़ी, दरिहट ब्लैक स्पॉट है. लगभग सभी ब्लैक स्पॉट वाले स्थल के समीप मार्ग में कट है. जहां से वाहन घूमकर दूसरे रास्ते को जाती है. ऐसे में अचानक से मार्ग में गुजर रही वाहन के आगे दूसरे रास्ते से वाहन आने से दुर्घटनाएं होती हैं. ऐसे दुर्घटनाओं को रोकने के लिये ब्लैक स्पॉट वाली

जगहों पर साइनेज लगाने की योजना है. ताकि, साइनेज से संभावित दुर्घटना से लोग सर्तक हो जाएं. लेकिन, जिला में अधिकांश ब्लैक स्पॉट वाले जगहों पर साइनेज नहीं है. जहां साइनेज है भी तो अतिक्रमण का शिकार है. या फिर धूमिल हो गई है.
जिले में 11 माह में 286 लोगों की जा चुकी है जान जिले में एक जनवरी 2022 से नौ नवंबर 2022 तक 315 सड़क दुर्घटनाएं हुई हैं. जिसमें 521 लोग सड़क दुर्घटना के शिकार हुए हैं. दुर्घटना के शिकार हुए 521 लोगों में से 286 लोगों की मौत हुई है. वहीं 235 लोग घायल हुए हैं. जिले में हुई सड़क दुर्घटनाओं में घायलों से ज्यादा मृतकों की संख्या है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सड़क हादसे में जान गंवाने वाले आधे से अधिक लोगों के साथ दुर्घटना ब्लैक स्पॉट वाली जगह पर ही हुई है. वहीं, दुर्घटना का कारण हाई स्पीड बताया जा रहा है. विभागीय सूत्रों की मानें तो असावधान मोड़ के कारण 27 सड़क दुर्घटना में 25 लोगों की मौत और 10 लोग घायल हुए हैं. बिना ध्यान दिए लेन को बदलने के कारण 26 सड़क दुर्घटनाओं में 25 लोगों की मौत हुई है.

रोहतास न्यूज़ डेस्क
 

Share this story