Samachar Nama
×

Rishikesh  ग्रीन बेल्ट कंपनियों को नोटिस देकर भूल गया सिडकुल प्रशासन
 

Rishikesh  ग्रीन बेल्ट कंपनियों को नोटिस देकर भूल गया सिडकुल प्रशासन

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क, सिडकुल में सवा सौ से ज्यादा कंपनियों को सिडकुल प्रशासन नोटिस जारी कर भूल गया है. सिडकुल प्रशासन की लापरवाही का फायदा उठाकर और कई कंपनियों ने ग्रीन बेल्ट में कब्जा कर पेड़ पौधों की जगह टाइल्स लगाकर दो और चारपहिया वाहनों की पार्किंग बना डाली.
छह माह पहले ग्रीन बेल्ट पर कब्जा कर अवैध रूप से पार्किंग बनाने के मामले में सिडकुल कार्यालय से सैकड़ों कंपनियों को नोटिस जारी कर ग्रीन बेल्ट पर कब्जा तत्काल हटाने के आदेश दिए थे. कई कंपनियों ने नोटिस का जवाब देकर कब्जा भी हटाया, लेकिन पचास से अधिक कंपनियों ने नोटिस का जवाब देना भी उचित नहीं समझा. ग्रीन बेल्ट में पेड़ पौधे लगाकर अस्थाई पार्किंग, टाइल्स और दीवारें बना दी गई हैं. सिडकुल-प्रशासन एक बार फिर तीसरी बार रिमांड नोटिस जारी करने की बात कह रहा है. उधर ग्रीन बेल्ट पर कब्जा हटाना चाहिए या नहीं कोई भी उद्योगपति और एसोसिएशन बोलने को तैयार नहीं है.

उधर फिजिशियन डॉ. कुंवर सिंह राणा ने कहा कि उद्योग प्रदूषण का प्रमुख कारक है. उद्योगों में ऊर्जा संसाधन के प्रयोग से वायु में प्रदूषण फैलता है. ग्रीन बेल्ट की हरियाली से आक्सीजन की मात्रा बढ़ती है. हरियाली पर्यावरण को संतुलित रखती है. अगर पेड़ पौधे नही होंगे तो प्रदूषण नियंत्रण नहीं होगा. पेड़ पौधे हमें ऑक्सीजन देते हैं. और हानिकारक कार्बन ऑक्साइड को ग्रहण कर वातावरण को शुद्ध बनाते हैं. पेड़ पौधों के बिना हमारा और पृथ्वी का कोई अस्तित्व नहीं है. वातावरण को हरा-भरा पेड़ पौधे ही बनाते हैं. पेड़ पौधे हमें शुद्ध ऑक्सीजन के साथ लकड़ी, ठंडी छाया और फल फूल भी देते हैं.
वायु प्रदूषण बड़ी समस्या
सिडकुल के मास्टर प्लान में ग्रीन बेल्ट के लिए भूमि आरक्षित होती है. ताकि पर्यावरण का संतुलन बना रहे. लेकिन आरोपी कंपनियों ने ग्रीन बेल्ट पर स्कूटर, मोटरसाइकिल और कार के लिए पार्किंग बना दी है. दूसरी तरफ औद्योगिक क्षेत्रों में होने वाले प्रदूषण को नष्ट करने के लिए ग्रीन बेल्ट में पेड़ पौधे लगाने की जगह पार्किंग एंव टाइल्स, पक्की दीवार बना दी गई है. स्थानीय भाजपा विधायक आदेश चौहान ने कहा कि सिडकुल-प्रशासन ने कंपनियों को नोटिस दे दिया है. जिन्होंने गलत तरीके से ग्रीन बेल्ट को पार्किंग अथवा टाइल्स बना रखी है. कंपनियों को जो जमीन जिस कार्य के लिए आवंटित हुई है. उसमें वही कार्य करें. सिडकुल पर्यावरण संरक्षण को देखते हुए अपने स्तर से ही वैधानिक कार्रवाई करेगा.

ऋषिकेश न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story