Samachar Nama
×

Rishikesh  निर्माण तेज तपोवन-स्वर्गाश्रम के बीच बजरंग सेतु मई तक होगा तैयार
 

Rishikesh  निर्माण तेज तपोवन-स्वर्गाश्रम के बीच बजरंग सेतु मई तक होगा तैयार

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क, तीर्थक्षेत्र ऋषिकेश से सटे तपोवन और स्वर्गाश्रम को अब नया बजरंग सेतु इसी साल मई तक मिलने जा रहा है. निर्माण एजेंसी सेतु का 40 फीसदी कार्य पूरा चुकी है. अब कंक्रीट के पिलरों को खड़ा करने की तैयारी है, जिस पर ब्रिज के दोनों सिरों को आपस में जोड़ा जाएगा. ब्रिज पर सैलानियों के पैदल आवागमन के लिए कांच होगा. जबकि, कार और बाइक से भी झूलापुल पर आवाजाही होगी.

केंद्र सरकार के सेंट्रल रोड एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड (सीआईआरएफ) योजना के तहत करीब 55 करोड़ रुपये की लागत से तपोवन-स्वर्गाश्रम के बीच बजरंग सेतु का निर्माण किया जा रहा है. पर्यटन के लिहाज बेहद महत्वपूर्ण इस ब्रिज का कार्य निर्माण एजेंसी युद्धस्तर पर कर रही है. पीडब्ल्यूडी की नरेंद्रनगर डिविजन के मुताबिक ब्रिज की नींव का काम पूरा कर लिया गया है. जबकि, लोहे व अन्य पार्ट्स भी तैयार हैं. एजेंसी ने अब पुल को गंगा के दोनों छोरों से जोड़ने के लिए पिलर निर्माण शुरू किया है. सेतु निर्माण के लिए मई की डेडलाइन है. निर्माण एजेंसी का दावा है कि तय वक्त में निर्माण पूरा कर लिया जाएगा.
तीन मीटर में कांच, पांच पर डामर
तपोवन-स्वार्गश्रम के बीच बनने वाले बजरंग सेतु की कुल लंबाई 132.30 मीटर है. जबकि, चौड़ाई आठ मीटर रखी गई है. आठ मीटर हिस्से में दोनों किनारों पर डेढ़-डेढ़ मीटर कांच बिछाया जाना है, जिसपर सैलानी व स्थानीय लोग पैदल चलेंगे. बाकी पांच मीटर हिस्से पर डामर बिछाया जाएगा. इस हिस्से पर कार और दोपहिया वाहन चल सकेंगे.
पटरी पर लौटेगा व्यापार
अंग्रेजों के वक्त बने लक्ष्मणझूला पुल की मियाद पूरी होने पर साल 2019 में राज्य सरकार ने सुरक्षा के लिहाज से इसे बंद कर दिया था. सैलानियों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगने से आसपास के व्यापारियों को झटका लगा था. उनका व्यापार मौजूदा समय में भी झूलापुल बंद होने से पूरी तरह प्रभावित है. बजरंग सेतु बनने के बाद कारोबारियों का व्यापार भी सैलानियों के बढ़ने से रफ्तार पकड़ेगा.
ब्रिज निर्माण के लिए राज्य सरकार ने मई-2023 का वक्त तय किया है. अभी तक 23 करोड़ खर्च हो चुके हैं. लोहे के सभी पार्ट्स तैयार हैं. पिलर खड़े होते ही पुल के दोनों सिरों को आपस में जोड़ दिया जाएगा. मई तक निर्माण पूरा कर लिया जाएगा. -रतनेश कुमार सक्सेना, एई, पीडब्ल्यूडी नरेंद्रनगर

ऋषिकेश न्यूज़ डेस्क !!!

Share this story