Samachar Nama
×

Ranchi अवैध खनन पर पत्राचार करने पर मुझे पत्रवीर कहते थे सीएम, पोल खुलने के डर से अफसरों पर नहीं की गई कार्रवाई 
 

Ranchi अवैध खनन पर पत्राचार करने पर मुझे पत्रवीर कहते थे सीएम, पोल खुलने के डर से अफसरों पर नहीं की गई कार्रवाई 

झारखण्ड न्यूज़ डेस्क, भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने अवैध खनन से जुड़े सवालों के जवाब पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को घेरा है.  बाबूलाल ने कहा कि हेमंत अपनी याददाश्त ठीक करें, कागज नहीं मरा करता. उन्होंने कहा कि मेरी जिन चिह्वियों पर सीएम ने पत्रवीर कह कर मजाक उड़वाया, उन्हें निकाल कर देखें. उसके बाद बोलें कि सच में वे लूट में शामिल थे या नहीं?

बाबूलाल ने कहा कि साहिबगंज में पंकज मिश्रा द्वारा पत्थर, बालू, जंगल, जमीन आदि की सिंडिकेट बनाकर लूट गिरोह चलाने, गलत जगह जहाज से गंगा के मार्ग से पार कराने के चक्कर में ट्रकों के डूबने जैसे मामले में जुबान खोलने वालों को जेल में डालने जैसे मामलों के बारे में दो साल में मैंने करीब एक दर्जन पत्र लिख सबकुछ संज्ञान में लाया. ईडी की कार्रवाई के बाद भी सीएम की नींद इसलिए नहीं खुली कि सोये हुए को जगाया जा सकता है, जगे हुए को नहीं.
बाबूलाल ने कहा कि पंकज मिश्रा की करतूतों के लिए जिस साहिबगंज डीसी, एसपी को दोषी बता कर बच निकलने का रास्ता ढूंढ़ा गया, उनपर क्या कार्रवाई की गई. बाबूलाल ने दावा किया कि लूट के राजदार किसी भी अफसर पर सीएम कोई कार्रवाई इसलिये नहीं कर सकते कि उनकी पूरी पोल खुलने का खतरा है. उन्होंने कहा कि बिना सीएम की सहमति के उनके आवास के सुरक्षा गार्ड को दूसरी जगह कोई अफसर नहीं भेज सकता. उन्होंने कहा कि सीएम आवास की सुरक्षा का एके-47 प्रेम प्रकाश के घर मिला तो डीजीपी दोषी, साहिबगंज में पंकज ने पत्थर लूट लिये तो वहां का डीसी और एसपी दोषी. यह सब होता रहा पर कार्रवाई नहीं हुई.


राँची न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story