Samachar Nama
×

Ranchi सदानों की पहचान का प्रतीक सदानी झंडा का लोकार्पण
 

Ranchi सदानों की पहचान का प्रतीक सदानी झंडा का लोकार्पण


झारखण्ड न्यूज़ डेस्क, मूलवासी सदान मोर्चा के झंडा का  लोकार्पण किया गया.  कोकर स्थित ग्रैंड ओकेजन में आयोजित समारोह में झंडे के लोकार्पण के बाद मोर्चा के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि सदान झारखंड के पुराने निवासी हैं. सदानी झंडा, सदानों की पहचान और आस्था का प्रतीक है.
सदानी झंडा की विशेषता बताते हुए राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि झंडे में 3 रंगों में लाल, पीला, हरा का प्रयोग किया गया है. झंडे के मध्यव भाग में उगते सूरज और नीले रंग से मूलवासी सदान शब्द लिखा हुआ है. इसमें लाल रंग शौर्य और विजय का प्रतीक है. पीला रंग आत्मविश्वास और आशावादी का प्रतीक है. हरा रंग हरियाली और खुशहाली का प्रतीक है. नीला रंग धैर्य व सहनशीलता का प्रतीक है. जबकि उगता हुआ सूर्य निरंतर प्रगतिशीलता का प्रतीक है. इस प्रकार यह सभी रंग सदानों के रहन-सहन, जीवनशैली, सभ्यता एवं संस्कृति को प्रदर्शित करते हैं. मंच संचालन करते हुए डॉ सुदेश साहू ने बताया गया कि झारखंड में सदानों का देश के स्वतंत्रता तथा राज्य के नवनिर्माण में बहुत योगदान है. झारखंड में सदान प्राचीन काल से ही निवासी हैं. राज्य के नवनिर्माण में यहां के सदान वर्ग का बड़ा योगदान रहा. इस अवसर पर प्रसिद्ध गायक और संस्कृतिकर्मी क्षितिश कुमार राय ने कहा कि आज सरकार उन तमाम सदानों के योगदान को भूल गयी, सरकार की नीयत और नियति के कारण सदानों की पहचान मिटती जा रही है.

जैसे हम राष्ट्रीय झंडा का सम्मान करते हैं वैसे ही सदान का झंडा को भी प्रतीक रूप में सम्मान करेंगे. डॉ.उमेश नंद तिवारी ने कहा कि झारखंड में सदानों का पहचान के लिए अपना ऐतिहासिक झंडा होगा. कार्यक्रम में किशोर गौंझु, अरुण साहू, डॉ. अनिल मिश्रा, साहित्यकार डॉ. शकुंतला मिश्र, जयप्रकाश यादव, महेंद्र गुप्ता, अशोक मंडल, नीलम ने झंडे के बारे में विचार व्यक्त किया.
झंडे साथ निकाली गई बाइक रैली
कार्यक्रम के बाद शहीद चौक से कचहरी तक झंडे के साथ मोटरसाइकिल रैली निकाली गई. चीन-पाकिस्तान में शहीद छेदी साहू के परिवार को मोर्चा अध्यक्ष ने पहला सदानी झंडा प्रदान किया. कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन प्रो अरबिंद प्रसाद ने किया. मौके पर दुमका, गोड्डा, जामताड़ा, देवघर, गढ़वा, पलामू, खूंटी, बोकारो, गिरिडीह, लोहरदगा, जमशेदपुर,रांची, हजारीबाग, लातेहार समेत राज्यभर से सैकड़ों सदान प्रतिनिधि शामिल हुए.

राँची न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story