Samachar Nama
×

Raipur 12 हजार मकान बनाने कॉलोनाइजरों से मिली 40 हेक्टेयर जमीन है खाली, ईडब्ल्यूएस कोटे में निगम को मिली 120 हेक्टेयर जमीन, लेकिन मकान 80 हेक्टेयर तक सीमित
 

Raipur 12 हजार मकान बनाने कॉलोनाइजरों से मिली 40 हेक्टेयर जमीन है खाली, ईडब्ल्यूएस कोटे में निगम को मिली 120 हेक्टेयर जमीन, लेकिन मकान 80 हेक्टेयर तक सीमित


छत्तीसगढ़ न्यूज़ डेस्क, शहर को झुग्गीमुक्त बनाने में अभी काफी मशक्कत करनी पड़ेगी. क्योंकि इस दिशा में राज्य विभाजन के बाद जिस तेजी से नगर निगम को काम करना था, वैसा हो नहीं पा रहा है. यहां तक कि निजी कॉलोनाइजरों से ईडब्ल्यूएस आवास बनाने के लिए जो जमीन निगम को मिल रही है, उसमें से 40 हेक्टेयर के करीब खाली पड़ी है. ऐसी 120 हेक्टेयर जमीन निगम प्रशासन को प्राइवेट कॉलोनी बनाने वाले बिल्डर दे चुके हैं.
नगर निगम क्षेत्र में निजी कॉलोनियों का विस्तार तेजी से हुआ है. ये आंकड़ा 185 कॉलोनियों का है. शहर के हर हिस्से में ऐसी 15 से 20 कॉलोनियों का निर्माण हुआ है. तो कई कॉलोनियां डेवलप हो रही हैं. टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के अनुसार ऐसे बिल्डरों के लिए 2017 तक 25 प्रतिशत जगह गरीबों के आवास बनाने के लिए छोड़ना अनिवार्य रहा है. इसके बाद निजी कॉलोनी के कुल रकबा का 15 प्रतिशत जमीन नगर निगम को मुहैया कराना तय है. उसी हिसाब से कॉलोनाइजर्स नगर निगम को जमीन उपलब्ध कराते हैं. उन्हें यह रियायत में शासन से मिल गई है कि यदि कॉलोनी में ईडब्ल्यूएस के लिए

जमीन उपलब्ध कराने नहीं करा सकते तो उस परिधि से 3 किमी के दायरे में उपलब्ध कराना अनिवार्य है, जिसमें ईडब्ल्यूएस श्रेणी के मकान बनाकर गरीबों को आवंटित किए जा सकें. इससे शहर झुग्गी मुक्त होने की दिशा में आगे बढ़ेगा.
एक हेक्टेयर में 300 मकान
कॉलोनाइजरों से ईडब्ल्यूएस मकानों के लिए मिली जगह में से 40 हेक्टेयर जमीन अभी खाली पड़ी है, जिसमें ईडब्ल्यूएस के मकानों का निर्माण होना है, परंतु इतनी जगह में इसकी अभी शुरुआत नहीं है. अधिकारियों के अनुसार एक हेक्टेयर में जी प्लस थ्री श्रेणी में 300 मकान बनाने का पैमाना तय है. उस हिसाब से 40 हेक्टयर में गरीबों के लिए 12000 मकानों का निर्माण होना अभी बाकी है.
कॉलोनाइजरों से मिलने वाली जमीन का उपयोग ईडब्ल्यूएस श्रेणी के आवास बनाने में लगातार की जा रही है. ऐसी जगह में अभी 11 हजार 581 मकानों का निर्माण चल रहा है. करीब 40 हेक्टेयर खाली है, उसमें भी आगामी समय में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास बनाए जाएंगे.
राजेश शर्मा, अधीक्षण अभियंता, पीएम आवास योजना

रायपुर न्यूज़ डेस्क !!!

Share this story