Samachar Nama
×

Munger मौसम के अनुकूल खेती का गुर सीखेंगे जिले के किसान,  यहां क्लस्टर में हो रही मौसम अनुकूल खेती
 

Munger मौसम के अनुकूल खेती का गुर सीखेंगे जिले के किसान,  यहां क्लस्टर में हो रही मौसम अनुकूल खेती


बिहार न्यूज़ डेस्क  मौसम अनुकूल खेती का गुर सीखने भागलपुर के किसान दूसरे जिले का भ्रमण करेंगे. पहले चरण में जिले के 80 किसानों का जत्था बांका जिले के रजौन प्रखंड में जाएंगे. रजौन प्रखंड में मौसम अनुकूल खेती का अच्छा प्रयास हो रहा है और कृषि विभाग इसे मॉडल के रूप में प्रस्तुत कर रहा है. इसलिए दूसरे जिले के किसानों को भी वहां भेजा जा रहा है. अगले सप्ताह भागलपुर के विभिन्न प्रखंडों के किसान भी रजौन प्रखंड का दौरा करेंगे.

खास बात यह कि मौसम अनुकूल खेती की विधा के साथ-साथ रजौन में किसानों ने कृषि उद्यम को भी अपनाया है. कृषि के साथ-साथ किसान मछली पालन, यांत्रिकरण के उपकरणों की मरम्मत आदि का भी काम कर रहे हैं. कृषि अधिकारियों का कहना है कि मौसम अनुकूल खेती में कई कृषि तकनीक का एक साथ इस्तेमाल किया जाता है. जैसे खेतों का समतलीकरण, खेती व्यवस्था का यांत्रिकरण, जीरो टिलेज विधि विभिन्न फसलों की बुआई आदि इसके प्रमुख घटक हैं. भ्रमण में किसानों को यह बताया जाएगा कि वहां के किसानों ने पारंपरिक कृषि विधा से हटकर कैसे आधुनिक तकनीक को अपनाया. खेतों के समतलीकरण को कैसे किया और इसका क्या फायदा मिला. साथ ही किसानों को बताया जाएगा कि जीरो टिलेज विधि से फसलों की बुआई के क्या लाभ हैं. जीरो टिलेज विधि से फसलों की बुआई की तकनीक पहले आयी है, लेकिन भागलपुर जिले में अब भी अधिकांश किसान इसे नहीं अपना पा रहे हैं. किसानों को यह डर लगता है कि नई तकनीक को अपनाने से कहीं उनकी फसल की उपज दर खराब न हो जाय. इसलिए सरकार की ओर से भ्रमण योजना के तहत मौसम अनुकूल खेती के बारे में बताया जा रहा है.
सन्हौला में हुआ है प्रयास
सबौर केवीके के सहयोग से जिले के सन्हौला प्रखंड में 11 एकड़ जमीन पर जीरो टिलेज से फसलों की बुआई करायी जा रही है. यहां खेतों का समतलीकरण के साथ-साथ आधुनिक तकनीक का भी इस्तेमाल बढ़ा है, लेकिन इसके साथ किसान कृषि उद्यमिता को नहीं अपना पा रहे हैं. जबकि किसान अगर कृषि उद्यमिता को अपनाएं तो इससे उनकी आमदनी दोगुनी हो सकती है.
हर प्रखंड से पांच किसान होंगे
किसानों को आत्मा की ओर से भ्रमण पर भेजा जाएगा. आत्मा के उप परियोजना निदेशक प्रभात कुमार सिंह ने बताया कि अगले सप्ताह 80 किसानों का जत्था बांका जिले के लिए रवाना हो जाएगा. उन्होंने बताया कि हर प्रखंड से पांच-पांच किसानों का चयन किया जा रहा है.

मुंगेर न्यूज़ डेस्क
 

Share this story