Samachar Nama
×

Meerut  रिपोर्ट मोहनपुरी की डेयरी का देसी घी निकला नकली, दाल, चावल के नमूने लिए 
 

Meerut  रिपोर्ट मोहनपुरी की डेयरी का देसी घी निकला नकली, दाल, चावल के नमूने लिए 


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  सात महीने बाद एफएसडीए लैब से आई रिपोर्ट में न्यू मोहनपुरी की चौधरी डेयरी के देसी घी के नकली होने की पुष्टि हुई है. घी में मिलावट पाए जाने पर एफएसडीए ने डेरी संचालक रिजवान पर मुकदमा दर्ज करने की संस्तुति की है. एफएसडीए टीम ने मई में न्यू मोहनपुरी स्थित चौधरी डेयरी से दो नमूने जांच के लिए लैब भेजे थे. टीम को देसी घी में मिलावट होने का सूचना विभाग को पोर्टल पर दी गई थी. सैंपल की जांच रिपोर्ट में देसी घी के नकली होने की पुष्टि हुई है. जिले में खाद्य पदार्थों मसाले, मिठाई, घी और दूध में लगातार मिलावट पाई जा रही है.
मिड-डे-मील के लिए रामसहाय इंटर कॉलेज में तैयार दाल, चावल के सैंपल  एफएसडीए टीम ने लिए हैं. खाद्य निरीक्षक अनिल गंगवार ने बताया कि रिपोर्ट में पता चलेगा कि खाने में कितनी गुणवत्ता है.
ज्यादा मात्रा में देसी घी लेते हैं तो शरीर में फैट बढ़ सकता है. अपच और दस्त की समस्या हो सकती है. कार्डियो वैस्कुलर बीमारी हो सकती है. कॉलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्या हो सकती है. हृदय रोगी घी का सेवन करने से बचें. - डॉ. राजीव अग्रवाल, वरिष्ठ ह्दय रोग विशेषज्ञ
घी खाने योग्य नहीं

लैब की जांच में चौधरी डेयरी के घी में फेट नहीं होने के साथ यह खाने योग्य नहीं पाया गया. इसके नकली होने की पुष्टि होने के बाद विभाग ने डेयरी संचालक रिजवान को नोटिस जारी कर मुख्यालय को मुकदमा दर्ज करने की संस्तुति के लिए पत्र भेज दिया है. - अनिल गंगवार, खाद्य सुरक्षा निरीक्षक


मेरठ न्यूज़ डेस्क
 

Share this story