Samachar Nama
×

Lucknow  सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की रोशनी में साधेंगे समीकरण,लोकसभा चुनाव के लिए पिछड़ों-दलितों पर नजर
 

Lucknow  सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की रोशनी में साधेंगे समीकरण,लोकसभा चुनाव के लिए पिछड़ों-दलितों पर नजर

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  मिशन-2024 के लिए भाजपा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की रोशनी में सामाजिक समीकरण साधेगी. मोटे अनाज के सहारे किसानों के बीच पैठ बढ़ाई जाएगी. विरोधियों को शिकस्त देने को प्रधानमंत्री की वैश्विक छवि और बुल्डोजर वाले बाबा की कानून-व्यवस्था भी 2024 में भाजपाई हथियार बनेंगे. भगवा दल ने प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में आगामी लोकसभा चुनाव का खाका खींच दिया.

भाजपा ने अब से लोकसभा चुनाव तक बाकी बचे 400 दिन की रूपरेखा भी तय कर ली है. प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी और प्रदेश महामंत्री संगठन धर्मपाल सिंह ने इस योजना का काफी कुछ ताना-बाना पार्टीजनों को समझा भी दिया. वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने यूपी के विकास, विरासत और सामर्थ्य का जिक्र कर सरकार का आगामी एजेंडा पेश कर दिया. योगी ने रामभक्तों को अयोध्या में कारसेवा के दिन याद दिलाकर भावुक किया. वहीं यह भी साफ कर दिया कि भौतिक संसाधनों के अभाव में भी पार्टी अपने पथ से डिगी नहीं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश जा जिक्र कर संघ की अगुवाई में संतों और अशोक सिंघल के मार्गदर्शन में हुए रामजन्म भूमि आंदोलन को सही ठहरा कर सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के एजेंडे पर पूरी दृढ़ता से आगे बढ़ने के संकेत दे दिए.
आगामी लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की नजर पिछड़ों-दलितों पर है. इन्हें साधने के लिए पार्टी सामाजिक सम्मेलन भी करेगी. मंडल, वार्ड, जिला, क्षेत्र और प्रदेश स्तर तक होने वाले सांगठनिक बदलावों में भी सामाजिक समीकरणों का पूरा ध्यान रखा जाएगा. वहीं मोदी और योगी सरकार की तमाम योजनाओं के लाभार्थियों को भी पार्टी एक अलग वर्ग के रूप में ले रही है. इनके बीच पैठ बढ़ाने की योजना है.
युवाओं-महिलाओं पर फोकस
यूपी को वन ट्रिलियन इकॉनामी बनाने का लक्ष्य भी भाजपा के लक्ष्य साधन में मददगार बनेगा. इसके लिए प्रदेश में अधिकाधिक निवेश लाने की कवायद की जा रही है.सीएम ने नया आकार लेते यूपी में युवाओं की सहभागिता बढ़ाने का आह्वान भी भाजपाइयों से किया.


लखनऊ न्यूज़ डेस्क
 

Share this story