Samachar Nama
×

Lucknow  सफाई-सड़क व लाइटों पर 80 करोड़ अधिक खर्च होंगे, नगर निगम ने कूड़ा प्रबंधन, सफाई, सड़क, स्ट्रीट लाइट का बजट बढ़ाया, महापौर की अध्यक्षता में कार्यकारिणी बैठक का फैसला
 

Lucknow  सफाई-सड़क व लाइटों पर 80 करोड़ अधिक खर्च होंगे, नगर निगम ने कूड़ा प्रबंधन, सफाई, सड़क, स्ट्रीट लाइट का बजट बढ़ाया, महापौर की अध्यक्षता में कार्यकारिणी बैठक का फैसला

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क   नगर निगम ने शहर में कूड़ा प्रबंधन, सफाई, स्ट्रीट लाइट और सड़कों की मरम्मत का बजट बढ़ा दिया है. विभिन्न मदों में अनुरक्षण, विकास कार्यों पर अब नगर निगम करीब 80 करोड़ रुपए ज्यादा खर्च करेगा.  महापौर संयुक्त भाटिया की अध्यक्षता में हुई कार्यकारिणी की बैठक में नगर निगम का पुनरीक्षित बजट पास हुआ.
निकाय चुनाव को देखते हुए नगर निगम ने पुनरीक्षित बजट पास कर दिया है. निगम ने पहले इस वित्तीय वर्ष के मूल बजट में जहां 1184.55 करोड़ खर्च का प्रस्ताव रखा था, वहीं पुनरीक्षित बजट में इसे बढ़ाकर 1264.50 करोड़ रुपए कर दिया है. इस तरह 79.95 करोड़ रुपए बजट बढ़ा दिया गया है. यह बजट शहर के विकास, कूड़ा प्रबंधन, मार्ग प्रकाश सहित कई मदों में खर्च किया जाएगा. आने वाले दिनों में इससे कूड़ा प्रबंधन बेहतर होने, स्ट्रीट लाइट व्यवस्था सुधरने के साथ सड़कों की मरम्मत की उम्मीद है.
गृहकर वसूली में होगी सख्ती नगर निगम ने न सिर्फ खर्च बढ़ाया है बल्कि 79.90 करोड़ आय का लक्ष्य भी बढ़ाया. इसके लिए गृहकर वसूली लक्ष्य भी बढ़ाया गया है. वसूली लक्ष्य पूरा करने के लिए नगर निगम बकाएदारों पर सख्ती भी करेगा. मूल बजट में गृहकर से 330 करोड़ की आय का लक्ष्य रखा था. मगर पुनरीक्षित बजट में इसे 385 करोड़ रुपए कर दिया गया है. इस तरह सिर्फ गृहकर से कमाई 55 करोड़ बढ़ाने का लक्ष्य है. इससे आने वाले दिनों में टैक्स बकाएदारों के खिलाफ सख्ती होगी.
गंदे सीवर-खुले मेनहोल से मिलेगी मुक्ति बैठक में गंदी सीवर लाइन और खुले मेनहोल की लगातार शिकायतों को ध्यान में रखते हुए इसका भी बजट बढ़ाया गया है. जलकल ने पुराने नलकूपों का मरम्मत बजट बढ़ाया है. महापौर संयुक्ता भाटिया की अध्यक्षता में पुनरीक्षित बजट को मंजूरी मिली.
सदन में जो प्रस्ताव पास हुआ है, वह वहीं वापस हो सकता है. कार्यकारिणी को अधिकार नहीं. एक बार जो प्रस्ताव पास हो गया है, उस पर छह माह चर्चा नहीं हो सकती है. कार्यकारिणी सदन से बड़ी नहीं है. नगर आयुक्त को भी इसे रोकने का अधिकार नहीं है. सिर्फ शासन ही रोक सकता है.
- गिरीश मिश्रा, वरिष्ठ पार्षद, कांग्रेस
बाद में ऐसा फैसला करना है तो सदन का मतलब ही नहीं है. सदन में सफाई कर्मी बढ़ाने का निर्णय हुआ. मेयर ने माइक से दो-दो बार इसे पास बताया. पार्षदों ने सर्वसम्मति से फैसला लिया था. लाइटें देने पर भी फैसला हुआ था. - देव शर्मा मिश्रा, वरिष्ठ पार्षद भाजपा
कार्यकारिणी में सदन से पास प्रस्ताव रोकने हक नहीं है. अधिनियम में सदन में जो चीजें पास होती हैं, उन्हें लागू होना है. यह सदन से पास थी.
- रामकृष्ण, वरिष्ठ पार्षद, भाजपा

ये प्रस्ताव भी पास
● नगर निगम डिग्री कॉलेज भवन निर्माण, नए ऑडिटोरियम के लिए 2 करोड़ पास
● वार्ड के खाली पोल पर लाइट लगेंगी. सूची पार्षद नगर निगम को उपलब्ध कराएंगे.
● कूड़ा उठान, स्वीपिंग मशीन, रोबोट इत्यादि का इन-आउट टाइम फिक्स होगा.
निगम लगाएगा लाइटें
नगर निगम सभी खाली खम्भों पर खुद स्ट्रीट लाइटें लगाएगा. पार्षदों को 25-25 स्ट्रीट लाइटें लगाने का प्रस्ताव कार्यकारिणी में वापस हो गया. महापौर, नगर आयुक्त ने बताया कि इसके लिए पार्षदों से खंभों की सूची मांगी जाएगी.
मद मूल बजट पुनरीक्षित
साफ सफाई अधिष्ठान 110 117
आकस्मिक संयंत्र 15 18
नगरीय ठोस अपशिष्ट 40 75
अधिष्ठान मार्ग प्रकाश 29 30
अस्थाई प्रकाश 02 04
स्ट्रीट लाइट के नए निर्माण 05 06
पार्क अधिष्ठान 29 30
मरम्मत अनुरक्षण 170 170
मरम्मत-निर्माण के दायित्व 263 291


लखनऊ न्यूज़ डेस्क
 

Share this story