Samachar Nama
×

Kota देश भर से कोचिंग लेने आए ढाई लाख छात्र बने साइबर ठगों के सॉफ्ट टारगेट, बीमारी के बहाने कमरे का किराया और सामान शिफ्ट करने में की ठगी
 

Kota देश भर से कोचिंग लेने आए ढाई लाख छात्र बने साइबर ठगों के सॉफ्ट टारगेट, बीमारी के बहाने कमरे का किराया और सामान शिफ्ट करने में की ठगी

राजस्थान न्यूज डेस्क, कोचिंग सिटी में साइबर ठग सक्रिय हैं। अक्सर कोचिंग के किसी न किसी छात्र के साथ धोखा हो रहा है। जिले के थानों, एसपी कार्यालय, साइबर सेल और ऑनलाइन पोर्टल पर ऐसी लगभग 10 शिकायतें प्राप्त होती हैं। कई मामले ऐसे होते हैं जो पैसे की कमी, समय की कमी या अन्य कारणों से दर्ज नहीं होते हैं।

साइबर सेल प्रभारी एएसआई प्रताप सिंह का कहना है कि मोबाइल या सोशल साइट हैक कर करीबियों व रिश्तेदारों से पैसे मांगे जा रहे हैं. आसान टारगेट ऐसे छात्र बनते हैं, जिनके जीमेल या सोशल प्लेटफॉर्म के पासवर्ड 1-2-3-4-5, मोबाइल नंबर, नाम, जन्म मृत्यु आदि सॉफ्ट अप्रोच होते हैं। लंबे समय तक पासवर्ड अपडेट नहीं करने वाले भी ठगी का शिकार हो जाते हैं।

विधि 1 : बीमारी की रिपोर्ट करते समय स्क्रीन रिकॉर्डिंग
छात्र बीमारी के लिए डॉक्टरों को ऑनलाइन खोजते हैं। Google पर चल रहे विज्ञापन अक्सर कपटपूर्ण होते हैं। जिस पर ठग आपसे डॉक्टर बनकर बात करता है और आपकी स्क्रीन रिकॉर्ड कर लेता है। वह बात करने और इलाज के लिए पैसे लेगा, कुछ समय बाद वह रिकॉर्डेड स्क्रीन का वीडियो भेजकर परिजनों से ठीक हो सकता है।

तरीका 2: पिक एंड ड्रॉप सर्विस में सस्ता कहकर

बाहरी छात्र, उनके माता-पिता सामान शिफ्ट करते हैं। अगर आप माल शिफ्ट करने वाली कंपनियों को सर्च करेंगे तो फ्रॉड हो सकता है। ठग रेट बाजार रेट से कम बताता है। वह एडवांस पैसा जमा करने को कहता है। जैसे ही 5-7 हजार रुपए एडवांस जमा कर देते हैं उसके बाद फोन स्विच ऑफ कर देते हैं। यानी कई नकली पैकर्स सक्रिय हैं।
कोटा न्यूज डेस्क!!!
 

Share this story