Samachar Nama
×

Kanpur  एसआईटी की जांच में मिला 40 साल पहले सील लॉकर
 

Kanpur  एसआईटी की जांच में मिला 40 साल पहले सील लॉकर


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  कारोबारी का जो लॉकर होने से बैंक लगातार इनकार कर रहा था, उसे एसआईटी ने खोज निकाला है. जांच में सामने आया है कि आयकर विभाग ने 40 साल पहले जांच के लिए लॉकर सील भी कराया था. एसआईटी ने इन सारे तथ्यों का उल्लेख करते हुए आयकर विभाग को पत्र लिखा है कि वह इस मामले का निस्तारण कराए.

तिलक नगर निवासी कारोबारी रमेश खन्ना की दादी देवकी देवी का लॉकर सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया की कराची खाना शाखा में है, जिसका नम्बर 391बी है. इसी शाखा के लॉकरों में चोरी की घटना के बाद रमेश खन्ना 27 अप्रैल को बैंक पहुंचे तो उन्हें जवाब दिया गया कि इस नम्बर का कोई लॉकर ही नहीं है. इस पर उन्होंने पुलिस कमिश्नर से शिकायत की. पुलिस कमिश्नर ने इस घटना के अलावा ऐसी ही दो और घटनाओं की जांच के लिए डीसीपी क्राइम के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया था.
डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल ने बताया कि बैंक लॉकर मिल गया है. आयकर विभाग ने लॉकर को किसी मामले में सन् 1982 में सील कराया था. लॉकर की चाबी बैंक के पास नहीं है. आयकर विभाग में छानबीन में पता चला कि इस केस के बारे में किसी को जानकारी ही नहीं है. आयकर विभाग को पत्र लिखा गया है कि वह इस मामले को देखे और इसका निस्तारण कराए.


कानपूर न्यूज़ डेस्क
 

Share this story