Samachar Nama
×

Kanpur  बेनाझाबर वाटर ट्रीटमेंट बंद होने से लोगों का नहाना-खाना तक हो गया मुश्किल,आधे शहर में पानी संकट, पीने तक को नहीं मिला, लगाने पड़े 40 टैंकर
 

Kanpur  बेनाझाबर वाटर ट्रीटमेंट बंद होने से लोगों का नहाना-खाना तक हो गया मुश्किल,आधे शहर में पानी संकट, पीने तक को नहीं मिला, लगाने पड़े 40 टैंकर

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  बेनाझाबर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बंद होने के कारण आधे शहर में पेयजल संकट गहरा गया. उत्तर के अधिकांश मोहल्लों में हाहाकार मच गया. लोगों का नहाना-खाना तो मुश्किल हुआ ही पीने तक का पानी नहीं मिल सका. स्थिति यह हो गई कि हैंडपाइपों से लेकर सबमर्सिबल पंपों और जलकल द्वारा विभिन्न इलाकों में भेजे गए 40 टैंकरों से पानी लेने के लिए लाइन लग गई. टैंकर भी नाकाफी साबित हुए.
झकरकटी में मेट्रो स्टेशन के निर्माण की वजह से पाइप लाइन की शिफ्टिंग और बेनाझाबर में पाइप लाइन जोड़ने के लिए प्लांट को बंद किया गया था. बेनाझाबर का काम पूरा हो चुका है पर झकरकटी में काम जारी है. गुरुवार की शाम को ही प्लांट बंद कर दिया गया था. अभी शुक्रवार की सुबह तक काम चलेगा.
इन प्रमुख इलाकों में नहीं हो सकी जलापूर्ति 

पी रोड, रामबाग, अशोक नगर, सीसामऊ, नेहरू नगर, जवाहर नगर, दर्शनपुरवा, आर्य नगर, स्वरूप नगर, तिलक नगर, काकादेव, नरायणपुरवा, विष्णुपुरी, नवाबगंज, स्वरूप नगर, बाल निकुंज, सिविल लाइंस, हालसी रोड, हरवंश मोहाल, फीलखाना, चुन्नीगंज, कैनाल पटरी, खोवा मंडी, बांसमंडी, आचार्य नगर, बेकनगंज, कर्नलगंज, लेनिन पार्क, बाबूपुरवा, रेल बाजार, मछरिया, बेनाझाबर मुख्यालय, गोविंद नगर, जूही कला और फजलगंज जोनल पंपिंग स्टेशनों से जुड़े इलाकों में सबसे ज्यादा पेयजल संकट रहा.
जल निगम के प्लांट से दक्षिण में हुई जलापूर्ति 

जल निगम के बैराज स्थित प्लांट और जलकल के बैराज प्लांट से जलापूर्ति जारी रही. नवाबगंज से लेकर विकास नगर, कल्याणपुर, इंदिरा नगर और पनकी तक के इलाकों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा. वहीं उत्तर में फूलबाग से पटकापुर और दक्षिण में जूही से नौबस्ता तक के कुछ ही इलाके प्रभावित हुए. दक्षिण में सिर्फ उन्हीं इलाकों में पेयजल का संकट रहा जहां जल निगम से जलापूर्ति नहीं होती.


कानपूर न्यूज़ डेस्क
 

Share this story