Samachar Nama
×

Jhansi  जानलेवा हमले में बेटे की मौत, पिता नाजुक, गोपालपुरा में खेत पर सिंचाई करने थे गए पिता-पुत्र, वारदात को अंजाम दे हत्यारे फरार
 

Jhansi  जानलेवा हमले में बेटे की मौत, पिता नाजुक, गोपालपुरा में खेत पर सिंचाई करने थे गए पिता-पुत्र, वारदात को अंजाम दे हत्यारे फरार


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  सीपरी बाजार थाना क्षेत्रान्तर्गत अंबाबाय के गांव गोपालपुरा में मंगलवार रात खेत पर पानी लगाने गए पिता-पुत्र पर अज्ञात लोगों ने प्राणघातक हमला कर दिया. जिसमें बेटे को मौत हो गई जबकि पिता की हालत नाजुक है. हमलावरों ने वारदात को किसी वजनदार वस्तु से अंजाम दिया है. बुधवार सुबह बेटे का सिर कुचला शव व पिता गंभीर हालत में मिलने से परिवार में कोहराम मच गया. वहीं डीआईजी, एसएसपी समेत अन्य पुलिस अफसरों ने मौका-मुआयना हत्या की जांच के निर्देश दिए हैं.
गांव गोपालपुरा निवासी काशीराम अहिरवार (65) ने गांव के हरदास से बटाई पर खेत लिया था. मंगलवार की रात वह अपने बड़े बेटे महेंद्र (35) के साथ खेत पर पानी लगाने गए थे. फिर दोनों लौटकर नहीं आए. देर रात अज्ञात हमलावरों ने दोनों पर किसी बजनदार चीज से हमला कर दिया और मृत समझ मौके से भाग निकले. बुधवार सुबह जब वह घर नहीं पहुंचे तो परिजनों को चिंता हुई. उन्होंने खेत पर जाकर देखा तो बिलख पड़े. जमीन पर महेंद्र का सिर कुचला शव पड़ा था. जबकि काशीराम लहूलुहान अवस्था में तड़प रहे थे. परिजनों ने तुरंत इसकी सूचना थाना पुलिस को दी. डीआईजी जोगेंद्र सिंह, एसएसपी राजेश एस, सीपरी बाजार थाना प्रभारी जेपी पाल भारी पुलिस बल के साथ वहां पहुंचे और घटना स्थल का जायजा लिया. मौके पर फॉरेंसिक टीम, डॉग स्क्वॉयड को बुलाया गया. पुलिस टीम ने काफी देर तक मौके पर पड़ताल की. थाना पुलिस की मानें युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. वहीं घायल व्यक्ति को मेडिकल कॉलेज भिजवाया है. जहां उसकी जांच हालत नाजुक बताई जा रही है.
गोपालपुरा गांव में डेडबॉडी मिलने की की सूचना मिली थी. डॉग स्क्वॉयड व फील्ड यूनिट भी मौके पर आ गया था. जांच में पता चला कि हॉर्डेन ब्लेन टॉरगेट से एक व्यक्ति के सिर पर हमला हुआ है. जिससे उसकी मौत हुई है. मामले के खुलासे के लिए दो टीमें गठित की गई है. -राजेश एस, एसएसपी
तैयारी से आए थे हत्यारे दहला गोपालपुरा

गांव गोपालपुरा में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ. मंगलवार की आधी रात क्या हुआ था? क्या पिता-पुत्र की किसी से रंजिश थी या और कोई मामला? हत्यारे वारदात को अंजाम दे फरार भी हो गए और चीख-पुकार भी नहीं हुई. न जाने ऐसे कितने सवाल हैं जो ग्रामीणों के दिलो-दिगाम हैं. ग्रामीण इतना जरूर मान रहे हैं कि हत्यारे पहले से घात लगाए होंगे. और वह पूरी तैयारी से आए थे.
हत्यारों ने भाई को मार डाला...
मृतक के चचेरे भाई नंद किशोर ने बताया कि कुछ समय पहले चाचा काशीराम ने बटाई पर खेत लिया था. वह यहीं पर रहते थे. जब सुबह भाई कैलाश खेत पर गए तब घटना की जानकारी हो सकी. हम लोग तुरंत दौड़कर पहुंचे तो महेंद्र की मौत हो गई थी. जबकि चाचा की थोड़ी सी सांस चल रही थी. उनकी किसी से रंजिश नहीं थी. कुछ समय पहले पाल से थोड़ा वातावरण बिगड़ा था.
खबर सुनकर मां अचेत होकर गिर पड़ी
गांव गोपालपुरा में हुए प्राणघातक हमले में युवक की मौत और पिता नाजुक मिलने के बाद परिवार में कोहराम मच गया. परिजनों ने बताया कि सुबह जब दोनों लौटकर घर नहीं आए तो छोटे बेटे कैलाश को वहां भेजा था. बताया, महेंद्र को काम पर जाना था. जैसे ही बेटे ने घर पर सूचना दी तो मां शांति बेहोश हो गए. सब फूट-फूटकर रो पड़े. घटना के बाद गांव गोपालपुरा में भी मातम छाया हुआ है.


झाँसी  न्यूज़ डेस्क
 

Share this story