Samachar Nama
×

Hisar बुजुर्गों के लिए गांव में वृद्धाश्रम बनें, सड़क-पानी की व्यवस्था हो
 

Hisar बुजुर्गों के लिए गांव में वृद्धाश्रम बनें, सड़क-पानी की व्यवस्था हो


हरियाणा न्यूज़ डेस्क, पंचायती राज संस्थाओं में एक के एक बाद उम्मीदवार घर-घर जाकर वोट मांगने में जुटे हैं. मतदाता भी अपने मुद्दों के साथ तैयार हैं. इसी के तहत गांवों के बुजुर्ग मतदाताओं की मांग है कि गांव में वृद्धाश्रमों की स्थिति ठीक करवाई जाए.
साथ ही उनकी प्रत्याशियों से यह भी मांग है कि जिन गांव में वृद्धाश्रम नहीं हैं, उनमें नए बनवाए जाएं. इसके अलावा गांव में साफ-सफाई सहित सड़क तथा पीने के पानी की उचित व्यवस्था हो. गांव में पशु अस्पताल को उन्नत करवाएं और उनमें जरूरी सुविधाएं मुहैया करवाएं.
गांव के कुछ बुजुर्गों की मांग यह भी है कि जिन बुजुर्गों और विधवाओं की पेंशन नहीं है, चुने जाने पर जनता के प्रतिनिधि उनकी पेंशन भी शुरू करवाने का काम कराएं.
हालांकि उम्मीदवार भी मतदाताओं को भरोसा दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं और जनता की हर मांग को सिर आंखों पर रख रहे हैं. गौरतलब है कि जिला परिषद और ब्लॉक समिति के लिए मतदान होगा और 25 नवंबर को सरपंच और पंच के लिए मतदान होगा. 27 नवंबर को मतगणना का कार्य होगा.

वेदपाल, गांव शाहजहांपुर मैं चुने जाने वाले प्रतिनिधि से यह चाहता हूं कि वह सबसे पहले गांव की सफाई पर विशेष ध्यान दें. गांव की जो सड़क टूटी है, उसे बनवाएं. जिन गांवों में वृद्धाश्रम नहीं है, उसमें सुविधायुक्त आश्रम बनवाएं. गांव तक आने-जाने के लिए हरियाणा रोडवेज की बसों की संख्या में बढ़ोतरी हो.
अल्लाह नूर, एगांव खंदावली मेरी मांग है कि गांव का चहुंमुखी विकास हो. गांव में जिन बुजुर्गों की पेंशन नहीं बनी है, सबसे पहले चुनने वाले प्रतिनिधि पेंशन की व्यवस्था करवाएं. इसके अलावा वह चाहते हैं कि बुजुर्गों के लिए गांव में एक अच्छा वृद्धाश्रम हो, जिसमें सभी प्रकार की सुविधा हो.
ओम प्रकाश, गांव डीग मेरी मांग है कि चुने हुए प्रतिनिधि सबसे पहले गांव की सफाई पर विशेष ध्यान दें और कानून व्यवस्था पर भी ध्यान देें. इसके अलावा पशु अस्पताल में सुविधाएं दी जाए. गांव में वृद्धाश्रम में सभी प्रकार की सुविधाएं मिलें. इसके अलावा यातायात सुविधा भी बढ़ाई जाए.
कर्मवीर शर्मा, मंझावली मैं चाहता हूं कि पंचायती चुनाव में चुनने वाला प्रतिनिधि सबसे पहले गांव के पशु अस्पताल को उन्नत करवाकर, उसमें सुविधाएं मुहैया करवाएं. लोगों को बीमार पशुओं का उपचार करवाने दूर के गांव कौराली जाना पड़ता है. इसके अलावा गांव में सफाई व्यवस्था भी जरूरी है.

हिसार न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story