Samachar Nama
×

Hisar पहल : पहले सरकारी अनाथालय में छह बच्चों का भविष्य संवरेगा, एनजीओ के सहयोग से चलाया जाएगा अनाथालय 
 

Hisar पहल : पहले सरकारी अनाथालय में छह बच्चों का भविष्य संवरेगा, एनजीओ के सहयोग से चलाया जाएगा अनाथालय 

हरियाणा न्यूज़ डेस्क, बाल कल्याण विभाग की टीम अब मासूम बच्चों का भविष्य संवारने की जिम्मेदारी निभाएगी. इसके लिए जिला बाल कल्याण विभाग के एनआईटी स्थित बाल भवन के तहत बनाए गए अनाथालय में छह मासूम बच्चे पहुंच चुके हैं.
जिले के सरकारी अनाथालय में बाल कल्याण विभाग की टीम मासूम बच्चों का भविष्य संवारेगी. जिला बाल कल्याण विभाग के एनआईटी स्थित बाल भवन के तहत बनाए गए अनाथालय में छह बच्चे पहुंच चुके हैं.
फिलहाल संस्थान में इन बच्चों की काउंसलिंग कर काउंसलर्स उन्हें भावनात्मक सहयोग देकर माहौल में ढालने में जुटे हैं. इन सभी बच्चों की उम्र 10 साल से कम है.

गौरतलब है कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की ओर से जिले में पहला सरकारी चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूट (सीसीआई) बनाया गया है. इसका उद्घाटन करीब तीन साल पहले किया जा चुका है, लेकिन फंड की कमी के चलते यह चालू नहीं हो सकता था.
फिलहाल फंड की व्यवस्था की जा चुकी है और बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूएसी) की ओर से यहां छह बच्चों को भेजा गया है, जोकि अब यहीं रहकर मुख्यधारा से जुड़ेंगे.
बाल कल्याण विभाग की ओर से एनजीओ टूगेदर वी विल के साथ मिलकर समझौते पर हस्ताक्षर (एमओयू) किया गया है. इसके तहत एनजीओ की ओर से इस केंद्र में आने वाले जरूरतमंद बच्चों के लिए खाने-पीने और यूनिफॉर्म आदि का खर्च उठाया जाएगा. एमओयू होने के बाद सीडब्ल्यूसी को कुछ समय पहले पत्र भेजकर इस बारे में सूचना दी गई थी. इसके बाद पिछले सप्ताह यहां समिति की ओर से छह बच्चे पहुंचाए गए हैं.
केंद्र में कुल 50 बच्चों को रखा जा सकता है. जिस भी संस्था या समूह को ऐसे किसी बच्चे को यहां भेजना हो उसके लिए सीडब्ल्यूसी के पास जाकर आवेदन करना होगा. औपचारिकताएं पूरी करने के बाद बच्चों को यहां भेजा जाएगा. ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता की कोविड के दौरान मौत हो गई हो, अनाथ हों या सिंगल पैरेंट हों, जो उनका पालन पोषण नहीं कर सकते, वैसे बच्चों को यहां रखा जाएगा.
- एसएल खत्री, जिला बाल कल्याण अधिकारी

हिसार न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story