Samachar Nama
×

Gaya  के उत्पादों की होगी ब्रांडिंग, बोधगया में किसान रूरल मार्ट
 

Gaya  के उत्पादों की होगी ब्रांडिंग, बोधगया में किसान रूरल मार्ट


बिहार न्यूज़ डेस्क  बाजार का युग है. ब्रांडिंग का युग है. इस युग में जो दिखता है, वो बिकता है. इस सिद्धांत को गया के कुछ किसानों ने भली भांति समझ लिया है और बाजार से दो-दो हाथ करने के लिए खुद को तैयार कर लिया है.
अपनी उत्पादों को सबकी नजर में लाने के लिए किसानों के समूह ने किसान रूरलम मार्ट बना लिया है. जी हां, गया के यूनिक उत्पादों की अब ब्रांडिंग होने जा रही है. बोधगया में किसान रूरल मार्ट बन कर तैयार हो गया है.
हर यूनिक उत्पाद मार्ट में बोधगया में नाबार्ड की मदद से किसान रूरल मार्ट बना है. इसका नाम दिया गया है- केवाल मार्ट . यानी गया मिट्टी केवाल के नाम पर इसका नाम रखा गया है. इस मार्ट को सौ किसानों का समूह मिलकर संचालित करेगा और यहां करीब 10 हजार किसानों के यूनिक उत्पादों की बिक्री होगी. मशरूम, ब्लैक राइस, ब्राउन राइस, शहद सहित अन्य कृषि उत्पाद तो बिकेंगे ही गया के अन्य यूनिक उत्पाद जैसे पत्थर कट्टी की मूर्तियां, आर्ट क्राफ्ट जैसी चीजें भी यहां बिकेंगी. केवाल मार्ट पूरी तरह तैयार है. किसानों की सामग्री मार्ट में लगातार पहुंच रही है. कुछ उत्पादों की बिक्री भी शुरू हो गई है. मार्ट से जुड़े युवा किसान प्रभात कहते हैं कि मार्ट पूरी तरह तैयार है. अब बस विधिवत उद्घाटन का इंतजार है. नाबार्ड के सीजीएम इसका उद्घाटन करनेवाले हैं. बहुत जल्द इसका उद्धाटन होने जा रहा है. केवाल मार्ट के जरिए एक तरह यूनिक उत्पादों की बिक्री होगी, तो दूसरी तरफ गया के यूनिक उत्पादों की ब्रांडिंग पर भी जोर रहेगा. हमारे किसान साथी बाजार के इस दौर में खुद को आगे रखने के लिए तैयार हैं.

यह गया के लिए अच्छी बात है. एक तरफ गया मशरूम क्रांति करने जा रहा है, तो दूसरी तरफ यूनिक उत्पादों की बिक्री के लिए रूरल मार्ट भी तैयार हो गया है. इससे किसानों को अपना उत्पाद बेचने में मदद मिलेगी और खेती-किसानी से किसानों को लाभ मिलेगा. साथ-साथ सिर्फ गया में ही नहीं, हम गया के उत्पादों को बाहर भेजने के लिए भी तैयारी कर रहे हैं.
-सुदामा महतो, जिला कृषि पदाधिकारी


गया न्यूज़ डेस्क 
 

Share this story