Samachar Nama
×

Dhanbad परेशानी आईएनसी ने सरकारी नर्सिंग स्कूलों को नहीं दी मान्यता, अधर में लटका भविष्य, सिर्फ झारखंड नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल से मिली है मान्यता
 

Dhanbad परेशानी आईएनसी ने सरकारी नर्सिंग स्कूलों को नहीं दी मान्यता, अधर में लटका भविष्य, सिर्फ झारखंड नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल से मिली है मान्यता


झारखण्ड न्यूज़ डेस्क,  चालू सत्र 2022-23 के लिए इंडियन नर्सिंग काउंसिल (आईएनसी) ने जीएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग पीएमसीएच (एसएनएमएमसीएच) और एएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग सदर अस्पताल को मान्यता (रिकॉग्नाइज) नहीं दी है. इसका कारण शिक्षकों की कमी बताया जा रहा है. यानी ये दोनों नर्सिंग स्कूलों में यह सत्र सिर्फ झारखंड नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल से मान्यता पर चल रहा है. इसका असर इस सत्र में नामांकन लेने वाली छात्राओं को नौकरी पाने में हो सकता है. उन्हें राज्य के बाहर सरकारी सेवा या विदेश में नौकरी लेने में परेशानी होगी.
बता दें कि किसी भी नर्सिंग स्कूल के संचालन के लिए केंद्र सरकार की इकाई इंडियन नर्सिंग काउंसिल और राज्य सरकार की इकाई झारखंड नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल से मान्यता लेनी होती है. हर साल इंडियन नर्सिंग काउंसिल नर्सिंग स्कूल के संसाधन और मैनपावर का जायजा लेती है. इसके आधार पर उस सत्र में नामांकन की मान्यता देती है. इस साल इंडियन नर्सिंग काउंसिल ने जीएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग एसएनएमएमसीएच और एएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग सदर अस्पताल को मान्यता नहीं दी. जिले के दोनों सरकारी नर्सिंग स्कूल सिर्फ झारखंड नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल से मान्यता पर संचालित हो रहे हैं.

शिक्षकों की कमी मुख्य कारण अधिकारियों के अनुसार आईएनसी से मान्यता नहीं मिलने का सबसे बड़ा कारण शिक्षकों की कमी है. 30 सीट वाले एएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग सदर अस्पताल में अनुबंध पर बहाल सिर्फ एक शिक्षिका कार्यरत हैं. यही प्राचार्य का भी पद संभाल रही हैं जबकि यहां शिक्षक के छह पद हैं. पांच पद रिक्त पड़े हैं. 40 सीट वाले जीएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग एसएनएमएमसीएच में भी शिक्षकों की कमी है. यहां प्राचार्य समेत सिर्फ सिर्फ चार शिक्षक हैं.
बाहर नौकरी को आईएनसी की मान्यता जरूरी अधिकारियों के अनुसार आईएनसी के मान्यता नहीं होने पर संबंधित नर्सिंग स्कूल से पास होने वाली छात्राओं को विदेश में काम नहीं मिल पाता है. विदेश के लिए आईएनसी मान्यता प्राप्त नर्सिंग स्कूल का प्रमाण पत्र जरूरी होता है. दूसरे राज्यों में भी सरकारी नौकरी पाने में परेशानी होती है. सिर्फ झारखंड नर्सेज रजिस्ट्रेशन काउंसिल से मान्यता प्राप्त नर्सिंग स्कूल से पास छात्राएं झारखंड में ही नौकरी कर पाएंगी. मेडिकल कॉलेज के संचालन के लिए वहां आईएनसी से मान्यता प्राप्त जीएनएम नर्सिंग स्कूल को संचालन जरूरी है.
सरकार को लिखा गया है पत्र सरकारी नर्सिंग स्कूलों में शिक्षकों की कमी को लेकर संबंधित विभागों द्वारा कई बार सरकार को पत्र लिखा जा चुका है. बावजूद इस कमी को दूर करने की दिशा में पहल नहीं की गई. न तो एएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग सदर अस्पताल को शिक्षक मिले और न ही जीएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग एसएनएमएमसीएच को.

धनबाद न्यूज़ डेस्क !!!

Share this story