Samachar Nama
×

Dehradun विभाग से पूछे बिना व्यवस्था बदलने पर महाराज नाराज, मसूरी मंथन में हुआ था विचार 
 

Dehradun विभाग से पूछे बिना व्यवस्था बदलने पर महाराज नाराज, मसूरी मंथन में हुआ था विचार 


उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क, ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों (वीपीडीओ) को जिला पंचायती राज अधिकारी के बजाय खंड विकास अधिकारी के अधीन किए जाने पर पंचायतीराज मंत्री सतपाल महाराज ने एतराज जताया है. उन्होंने बिना विभाग की राय लिए, इस तरह फैसला लिए जाने पर हैरानी जताई है. साथ ही सीएम से इस फैसले को वापस लेने की अपील की है.

कृषि उत्पादन आयुक्त आनंद वर्द्धन की ओर से 16 जनवरी को जारी आदेश में ग्राम पंचायतों में ग्राम विकास अधिकारी या ग्राम पंचायत विकास अधिकारी में से किसी एक को ही नियुक्ति करने के आदेश दिए गए हैं. इन सभी कार्मिकों की तैनाती खंड विकास अधिकारी करेंगे. ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन इसके विरोध में आ गया है.
एसोसिएशन उसी दिन से ही प्रदेश व्यापी हड़ताल पर है. इधर, विभागीय मंत्री सतपाल महाराज ने भी इस बदलाव पर आपत्ति जताई है. महाराज के मुताबिक वो पंचायतों को 28 विभाग सौंपने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, लेकिन उल्टा विभाग के कार्मिकों को दूसरे विभाग के अधीन कर दिया गया. उन्होंने पंचायतीराज की मूल भावना के खिलाफ बताया है.
दरअसल उक्त प्रस्ताव मसूरी मंथन में पास किया गया था, जिसे बाद में कैबिनेट से भी मंजूर कर लिया गया. महाराज का कहना है कि उन्हें मसूरी मंथन में अंतिम दिन ही एक सत्र में संबोधन के लिए बुलाया गया था. ऐसे में इस प्रस्ताव की उन्हें जानकारी नहीं थी. जिस कैबिनेट में यह प्रस्ताव पारित हुआ, उसमें वो नहीं थे.

देहरादून न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story