Samachar Nama
×

Chandigarh छात्रा को अगवा कर 30 लाख की फिरौती मांगी, नाना के यहां रह रही थी बेटी, जेसीबी संचालक हैं पिता
 

Chandigarh छात्रा को अगवा कर 30 लाख की फिरौती मांगी, नाना के यहां रह रही थी बेटी, जेसीबी संचालक हैं पिता


हरियाणा न्यूज़ डेस्क, नंदग्राम थानाक्षेत्र में सोनीपत निवासी जेसीबी संचालक की 11 वर्षीय बेटी को अगवा कर 30 लाख की फिरौती मांगने का मामला सामने आया है. अनजान नंबर से फिरौती की कॉल आते ही परिजनों के होश उड़ गए. बच्ची नंदग्राम में अपने नाना-नानी के पास रहती थी. पीड़ित पिता की शिकायत पर केस दर्ज कर पुलिस बच्ची की बरामदगी के प्रयास में जुट गई है. वहीं, मुख्यमंत्री के दौरे से पहले अपहरण और फिरौती की घटना से पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है. अधिकारियों का कहना है कि बच्ची की बरामदगी के लिए क्राइम ब्रांच समेत तीन टीमें गठित कर दी गई हैं.
सोनीपत हरियाणा के टोकी मनोली निवासी मोन सिंह की शादी नंदग्राम के नई बस्ती निवासी ममता के साथ हुई थी. वर्ष 2015 में मोन सिंह का देहांत होने के बाद ममता की शादी उसके देवर सोनू से कर दी गई थी. सोनू दो बेटों तथा एक बेटी का पिता है. सबसे बड़ी बेटी खुशी (11) बचपन से ही नई

बस्ती निवासी नाना बिजेंद्र और नानी शांति के पास रहती है. वह नई बस्ती के ही एक स्कूल में कक्षा तीन की छात्रा है. मंगलवार सुबह करीब दस बजे बिजेंद्र और शांति पशुओं के लिए खेत से चारा लेने चले गए, जबकि खुशी पर थी. दोपहर करीब साढ़े 12 बजे घर लौटे तो दरवाजा बाहर से बंद मिला. उन्होंने सोचा कि खुशी आसपास कहीं खेलने चली गई होगी. लेकिन, दोपहर करीब 1.42 बजे सोनीपत में सोनू के पास अनजान नंबर से कॉल आते ही परिवार में हड़कंप मच गया.
तीन दिन में 30 लाख का इंतजाम कर लो सोनू का कहना है कि अनजान से उनके पास कॉल आई. कॉलर ने पूछा कि खुशी तुम्हारी बेटी है ना. हां कहने पर कॉलर ने कहा कि वह उनके पास है. तुम्हारे पास तीन दिन का समय है. 30 लाख रुपये का इंतजाम कर लो, नहीं तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना. सोनू का कहना है कि कॉल आते ही उनके पैरों तले जमीन खिसक गई. उन्होंने अपने साले सतीश को फोन करके खुशी के बारे में पूछा तो उसने जानकारी से इनकार कर दिया. इसके बाद नाना बिजेंद्र, नानी शांति, मामा सतीश और मामी उसकी तलाश में जुट गए.

चंडीगढ़ न्यूज़ डेस्क !!!

Share this story