Samachar Nama
×

Chandigarh शब्दों की गंभीरता तो खत्म नहीं कर रही जेन-जेड की शब्दावली!
 

Chandigarh शब्दों की गंभीरता तो खत्म नहीं कर रही जेन-जेड की शब्दावली!

हरियाणा न्यूज़ डेस्क, जेनरेशन जेड या जेन-जेड के युवाओं ने बातचीत की ऐसी शब्दावली विकसित की है जो कई मामलों में जनरेशन वाई यानी मिलेनियल्स को भ्रमित कर देती है. कई बार तो जेन जेड के जवाब मिलेनियल्स के लिए चुनौती भरे होते हैं. जेन जेड ने वर्कप्लेस पर बातचीत करने का तरीक ही नया गढ़ लिया है. ऐसे में जेन-जेड की सोशल डिक्शनरी से कन्फ्यूजन और गलत अर्थ निकलने की समस्या बनी रहती है क्योंकि ये पीढ़ी कहती कुछ और है और समझती कुछ और है.
क्या कहते हैं विशेषज्ञ

नीदरलैंड की रेडबॉड यूनिवर्सिटी में डिजिटल कम्युनिकेशन के असिस्टेंट प्रोफेसर लीक वेरहेजेन का कहना है कि मुख्य समस्या ये है कि भाषा बदलती रहती है. बातचीत में पैदा हो रहा भ्रम निश्चित रूप से कम्युनिकेशन को और कठिन बना रहा है. जेन जेड का इमोजी और मीम्स का बेवजह इस्तेमाल कर सोशल मीडिया के जरिए बातचीत करना अन्य लोगों के लिए चुनौती खड़ा कर रहा है. एक समस्या ये भी है कि ये पीढ़ी टेक्सट के माध्यम से ही बात करती रही है तो इनके पास अपने विचारों को शब्दों में पिरोने की क्षमता की कमी है. इसे इस पीढ़ी को विकसित करना होगा.
शब्दों का अंतर
शब्दों को समझने का अंतर यों समझा जा सकता है कि जब 24 वर्षीय मैरी क्लेयर वॉल को उसकी सहकर्मी ने मैसेज में “आउट ऑफ पॉकेट” लिखा तो वो खिलखिलाकर हंस पड़ी. जेन-जेड युवा के तौर पर उसने और उसके सहकर्मियों ने समझा कि उनके सहकर्मी ने कुछ रोमांचक गतिविधि करने करने का प्लान कर रही है लेकिन उसका असली अर्थ था कि वो मौजूद नहीं रहेगी. उपस्थित नहीं रह पाएगी.
इमोजी कर रहा कन्फ्यूज
इधर जेन जेड का इमोजी का यूज भी अपने आप में अनोखा और कन्फ्यृूज करने वाला है. इनकी बातचीत में कई शब्दों की जगह इमोजी ने ले ली है. 23 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर जान्हवी कालरा का कहती हैं, कई बार उनकी इमोजी का इस्तेमाल उनके कलीग्स को कनफ्यूज कर देता है. कालरा ने बताया कि एक सीनियर इंजीनियर को नाखून के ऊपर आग वाली इमोजी का अर्थ समझ नहीं आया था. जिसका जवाब देते हुए कालरा ने बताया कि वो मैनीक्योर इमोजी है जिसका मतलब है गो ऑन क्वीन.....
कितनी अलग है जेन जेड
प्यू रिसर्च सेंटर के मुताबिक जेनरेशन जेड वो पीढ़ी है जिसका जन्म 1997 से 2012 के बीच हुआ. ये पीढ़ी सोशल मीडिया के पीक दौर से गुजर रही है. मैसेज में कम शब्दों में अपनी बात को कहने के तात्पर्य से इस पीढ़ी ने एक अलग शब्दावली को गढ़ा है. जिस तरह चैटिंग एप्स बातचीत का जरिया बनती जा रही हैं, वैसे ही अन्य पीढ़ी के लिए मुश्किलें भी बढ़ती जा रही है. नई पीढ़ी एप्स पर चैट करते हुए बड़ी हो रही है. इनका इसका इमोजी इस्तेमाल भी काफी अलग है. जेन जेड पिछली पीढ़ियों के तुलना में इमोजी का बारीक और क्रिएटिविट यूज कर रही है. जोकि अर्थ का अनर्थ हो सकता है. क्योंकि इनका ये इस्तेमाल शब्दों की गंभीरता को खत्म कर रहा है.
बदल गया है स्ले का अर्थ
इस नई पीढ़ी के लिए कई शब्दों का अर्थ बिल्कुल अलग है. जैसे स्ले का अर्थ सामान्य तौर पर हत्या करना माना जाता है लेकिन जेन- जेड के मुताबिक इसका मतलब यू नेल्ड इट या यू किल्ड इट है. इस तरह से कई शब्दों का मतलब इस पीढ़ी ने अलग निकाल लिया है.

चंडीगढ़ न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story