Samachar Nama
×

Buxar शिक्षकों व कर्मियों की भारी कमी, पठन-पाठन बाधित, कई जगहों पर कुछ विषयों की पढ़ाई महज एक शिक्षक के सहारे हो रही है संचालित
 

Buxar शिक्षकों व कर्मियों की भारी कमी, पठन-पाठन बाधित, कई जगहों पर कुछ विषयों की पढ़ाई महज एक शिक्षक के सहारे हो रही है संचालित


बिहार न्यूज़ डेस्क  वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले सभी अंगीभूत कॉलेजों में शिक्षकों और कर्मियों की भारी कमी है. शिक्षकों की कमी से पठन-पाठन बाधित होता रहा है, जबकि कर्मी नहीं रहने से कार्यालय का कार्य बाधित हो रहा है. कई जगहों पर कुछ विषयों की पढ़ाई महज एक शिक्षक के सहारे संचालित हो रही है, जबकि इन कॉलेजों में इंटर से लेकर यूजी तक की पढ़ाई होती है. मालूम हो कि सिर्फ जगजीवन कॉलेज को छोड़कर सभी जगह पीजी तक की पढ़ाई भी होती है.
विवि अंतर्गत आधा दर्जन से अधिक अंगीभूत कॉलेज ऐसे हैं, जहां कुछ विषयों में स्थायी शिक्षक ही नहीं है. यहां उस विषय में नामांकन तो ले लिया जाता है, लेकिन बिना पढ़ाई किये विद्यार्थी परीक्षा फॉर्म भर कर परीक्षा देकर पास हो जाते हैं. एसबी कॉलेज में उर्दू में कोई शिक्षक नहीं है. कई जगह महत्वपूर्ण विषयों में सिर्फ एक-एक अतिथि शिक्षक के भरोसे हजारों विद्यार्थी पढ़ाई करने को मजबूर हैं.

अमूमन सभी कॉलेजों में विज्ञान, कला और समाजिक विज्ञान संकाय के विषयों में शिक्षकों की संख्या कम है. रोहतास और भभुआ के कुछ कॉलेजों में तो कुछ विषय बिना शिक्षक के ही हैं.
इसमें एसबी कॉलेज, एसएन कॉलेज, एएस कॉलेज, शंकर कॉलेज, रोहतास महिला कॉलेज सासाराम आदि शामिल हैं. हालांकि शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए विवि में अतिथि शिक्षक की बहाली पूरी की जा रही है. कई विषयों में इंटरव्यू भी लिया जा चुका है. वहीं इसकी जानकारी दे दी गई है
मुख्यालय के कॉलेजों में शिक्षकों का ब्योरा
कॉलेज स्वीकृत कार्यरत रिक्त
एचडी जैन कॉलेज 96 59 37
एसबी कॉलेज 60 21 39
एमएम महिला कॉलेज 51 24 27
जगजीवन कॉलेज 29 20 10
महाराजा कॉलेज 80 30 50
कर्मचारियों का आंकड़ा
कॉलेज स्वीकृत कार्यरत रिक्त
एचडी जैन कॉलेज 168 55 113
महाराजा कॉलेज 90 15 75
एसबी कॉलेज 76 26 50
जगजीवन कॉलेज 53 14 39
एमएम महिला कॉलेज 58 11 48


बक्सर न्यूज़ डेस्क 

Share this story